ब्रेकिंग न्यूज़
राफेल पर कांग्रेस के दुष्प्रचार का देश भर में पर्दाफाश करेगी भाजपामध्यप्रदेश: चुनाव से पहले शिवराज कैबिनेट की अहम बैठक, प्रदेश को मिलीं ये नई सौगातेंसलमान खान के इस गाने ने बना दिया रिकॉर्ड, बॉलीवुड में आज तक नहीं हुआ ऐसाबिजली संकट को लेकर धनबाद के लोगों ने सरकार के विरोध में खोला मोर्चायूपीः कुलदीप यादव गिरफ्तार, गरीब लोगों को धर्म परिवर्तन के लिए करता था प्रभावितलगातार हो रही बारिश और बर्फबारी से केदार घाटी में जनजीवन अस्त-व्यस्त, सैकड़ों यात्री फंसेतेजस्वी ने नीतीश सरकार पर साधा निशाना, कहा- बिहार में आम हो गया AK-47 हथियारपदमा शुक्ला हुई बागी, भाजपा का साथ छोड़ थामा कांग्रेस का हाथ
राष्ट्रीय
सुप्रीम कोर्ट ने ISRO के पूर्व वैज्ञानिक को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया
By Deshwani | Publish Date: 14/9/2018 2:08:13 PM
सुप्रीम कोर्ट ने ISRO के पूर्व वैज्ञानिक को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को 1994 के एक जासूसी कांड के संबंध में कहा कि इसरो के पूर्व वैज्ञानिक नंबी नारायणन को “बेवजह गिरफ्तार एवं परेशान किया गया और मानसिक प्रताड़ना” दी गई। साथ ही उसने केरल पुलिस के अधिकारियों की भूमिका की जांच के आदेश दिए। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की एक पीठ ने मामले में मानसिक प्रताड़ना के शिकार हुए 76 वर्षीय नारायणन को 50 लाख रुपये का मुआवजा देने को कहा। इस पीठ में न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ भी शामिल थे।
 
पीठ ने जासूसी मामले में नारायणन को फंसाए जाने की जांच करने के लिए उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायमूर्ति डी के जैन की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पैनल भी गठित किया। नारायणन ने केरल उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया था, जिसमें कहा गया था कि पूर्व डीजीपी और पुलिस के दो सेवानिवृत्त अधीक्षकों केके जोशुआ और एस विजयन के खिलाफ किसी भी कार्रवाई की जरूरत नहीं है। दोनों को बाद में सीबीआई ने वैज्ञानिक की अवैध गिरफ्तारी के लिए जिम्मेदार ठहराया था।
  
उच्चतम न्यायालय ने 1998 में राज्य सरकार को नारायणन व मामले में छोड़े गए अन्य को एक-एक लाख रुपये का मुआवाजा देने का निर्देश दिया था। बाद में नारायणन ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का रुख कर उनके द्वारा झेली गई मानसिक पीड़ा एवं प्रताड़ना के लिए राज्य सरकार से मुआवजा मांगा था। आयोग ने दोनों पक्षों को सुनने और उच्चतम न्यायालय के 29 अप्रैल, 1998 के फैसले को ध्यान में रखते हुए मार्च 2001 में उन्हें 10 लाख रुपये का अंतरिम हर्जाना देने को कहा।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS