राष्ट्रीय
नक्‍सली हमला : 9 जवानों की शहादत के बाद रमन सिंह ने की आपात बैठक
By Deshwani | Publish Date: 13/3/2018 8:41:20 PM
नक्‍सली हमला : 9 जवानों की शहादत के बाद रमन सिंह ने की आपात बैठक

रायपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सली हमले में नौ जवानों के शहीद होने की घटना के बाद मुख्यमंत्री रमन सिंह ने उच्च अधिकारियों की आपात बैठक बुलायी। बैठक में सीएम ने नक्सल विरोधी अभियान तेज करने के लिए निर्देश दिया।

 
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सुकमा नक्सली हमले मामले को लेकर आज मुख्यमंत्री रमन सिंह की अध्यक्षता में उनके निवास कार्यालय में शाम को आपात बैठक बुलाई गई। अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री सिंह ने बैठक में सुकमा के किस्टाराम में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए नक्सल हमले के सम्बन्ध में वरिष्ठ अधिकारियों से जानकारी ली।
 
सचिव अजय सिंह, गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव बी. वी. आर. सुब्रमनियम, मुख्य मंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक ए. एन. उपाध्याय, विशेष पुलिस महानिदेशक नक्सल ऑपरेशन डी.एम. अवस्थी और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
 
छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर माइन प्रोटेक्टेड व्हीकल( एमपीवी) को उड़ा दिया जिससे केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल( सीआरपीएफ) के नौ जवान शहीद हो गये।
 
करीब एक साल पहले भी सुकमा में ही नक्सलियों ने घात लगाकर हमला किया था कि जिसमें 12 जवानों की मौत हो गई थी। अधिकारियों ने बताया कि यह घटना आज दिन में करीब 12:30 बजे किस्टाराम- पलोडी रोड के किनारे हुई।
 
यह सड़क अभी निर्माणाधीन है। हमले में सीआरपीएफ की 212 वीं बटालियन को निशाना बनाया गया जो अभियान के लिए निकली थी। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हमले में सीआरपीएफ के नौ कर्मियों के मारे जाने की निंदा की और इस घटना को बहुत ही दुखद बताया।
 
उन्होंने कहा, सुकमा विस्फोट में अपनी जान गंवाने वाले कर्मियों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना. मैं घायल जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं. गृह मंत्री ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह से बात की। रमन सिंह ने उनको इस घटना, घायल जवानों के उपचार के लिए उठाए गए कदमों और संलिप्त लोगों को पकड़ने के लिए चलाए जा रहे अभियान के बारे में जानकारी दी।
 
अधिकारियों के मुताबिक विस्फोट में जवानों का वाहन करीब 10 फुट हवा में उछला और टुकड़े- टुकड़े हो गया। सीआरपीएफ के महानिदेशक राजीव भटनागर पीटीआईबताया, हमले की चपेट में आए जवान एंटी माइन व्हीकल में सफर कर रहे थे और पलोडी में खुली नयी चौकी की तरफ जा रहे थे। इलाके में नक्सली सुबह करीब आठ बजे देखे गए और कोबरा टीमों ने प्रभावी जवाबी कार्रवाई की और उनके घेरे को तोड़ दिया।
 
उन्होंने कहा, बहरहाल, जब दोपहर में मोटरसाइिकलों और दो एमपीवी का काफिला गुजर रहा था तो दूसरा एमपीवी विस्फोट की चपेट में आ गया। भटनागर आधिकारिक दौरे के बाद सुबह राज्य से लौटे हैं। अधिकारियों का कहना है कि हमले के पीछे नक्सल कमांडर हिदमा और उसके समूह पीएलजीए ( पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी) बटालियन नम्बर 1 के सदस्य हो सकते हैं. इससे पहले, सीआरपीएफ के अधिकारियों ने रायपुर में बताया कि किस्टाराम थाना क्षेत्र के पलोड़ी शिविर में सुकमा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा का दौरा था. इसे देखते हुए किस्टाराम से पलोड़ी के लिए दो एंटी लैंडमाइन व्हीकल में सीआरपीएफ के 212 वीं बटालियन के जवानों को रवाना किया गया था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS