ब्रेकिंग न्यूज़
डाकघरों के माध्यम से दस दिन की अवधि में एक करोड़ से अधिक राष्ट्रीय ध्वज खरीदे गयेमोतिहारी कस्टम के दो हवलदारों को केन्द्रीय जांच ब्यूरो ने पकड़ा, 20 हजार रुपये घूस लेने का आरोपप्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 के भारतीय दल का अभिवादन कियाएनएमडीसी और फिक्की भारतीय खनिज एवं धातु उद्योग पर सम्मेलन का आयोजन करेंगेबिहार: आज बादल गरजने के साथ ठनका गिरने की आशंका, तीन जिलों में भारी बारिश का अलर्टमोतिहारी, हरसिद्धि के जागापाकड़ में महावीरी झंडा के दौरान आर्केस्ट्रा में फायरिंग, दो घायल, प्राथमिकी दर्जबिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को हटाने के लिए सत्तारूढ महागठबंधन के सदस्यों ने नोटिस सौंपाप्रधानमंत्री ने आशूरा के दिन हज़रत इमाम हुसैन की शहादत को याद किया
राष्ट्रीय
प्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में हिस्सा लेने जा रहे भारतीय दल से बात की
By Deshwani | Publish Date: 20/7/2022 11:22:32 PM
प्रधानमंत्री ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में हिस्सा लेने जा रहे भारतीय दल से बात की

दिल्ली। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में हिस्सा लेने जा रहे भारतीय दल के साथ आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इसमें एथलीट के साथ-साथ उनके कोच भी उपस्थित थे। केंद्रीय युवा मामले एवं खेल और सूचना एवं प्रसारण मंत्री श्री अनुराग सिंह ठाकुर, युवा मामले एवं खेल राज्य मंत्री श्री निशिथ प्रमाणिक और खेल सचिव श्रीमती सुजाता चतुर्वेदी भी इस अवसर पर मौजूद रहे।





प्रधानमंत्री ने आज अंतर्राष्ट्रीय शतरंज दिवस के मौके पर राष्ट्रमंडल खेलों के लिए तैयार भारतीय दल को शुभकामनाएं दीं। शतरंज ओलंपियाड 28 जुलाई से तमिलनाडु में हो रहा है। उन्होंने कामना की कि वे भारत को उसी प्रकार गौरवान्वित करेंगे जैसे उनके पूर्ववर्तियों ने पहले किया है। उन्होंने बताया कि पहली बार 65 से ज्यादा एथलीट राष्ट्रमंडल खेल में भाग ले रहे हैं और उनके द्वारा जबरदस्त असर छोड़ने की कामना की। उन्होंने खिलाड़ियों को सलाह दी कि वे "पूरा दिल लगाकर खेलें, जोरद़ार तरीके से खेलें, पूरी ताकत लगाकर और बग़ैर किसी तनाव के खेलें"।




इस दौरान प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र के एथलीट श्री अविनाश साबले से बात की और सियाचिन में भारतीय सेना में सेवाएं देने के उनके अनुभव के बारे में पूछा। साबले ने कहा कि उन्हें भारतीय सेना में अपने 4 साल के कार्यकाल से बहुत कुछ सीखने को मिला है। उन्होंने कहा कि भारतीय सेना से उन्हें जो अनुशासन और प्रशिक्षण मिला है, उससे वे जिस भी क्षेत्र में जाएंगे वहां उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने में मदद मिलेगी। 





प्रधानमंत्री ने उनसे पूछा कि उन्होंने सियाचिन में काम करते हुए स्टीपलचेज फील्ड को क्यों चुना। अविनाश साबले ने कहा कि स्टीपलचेज में बाधाओं को पार करना होता है और सेना में उन्होंने इसी तरह का प्रशिक्षण प्राप्त किया है। प्रधानमंत्री ने उनसे पूछा कि उन्होंने इतना तेजी से वजन कैसे कम किया। साबले ने कहा कि सेना ने उन्हें खेलों में शामिल होने के लिए प्रेरित किया और उन्हें खुद को प्रशिक्षित करने के लिए अतिरिक्त समय मिला और इससे वजन कम करने में मदद मिली।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS