ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
राष्ट्रीय
अनुसूचित जाति-जनजाति पदोन्नति में आरक्षण मुद्दे पर संसद में हंगामा
By Deshwani | Publish Date: 10/2/2020 2:52:30 PM
अनुसूचित जाति-जनजाति पदोन्नति में आरक्षण मुद्दे पर संसद में हंगामा

नई दिल्ली संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा है कि सरकार उच्चतम न्यायालय के निर्णय पर कुछ नहीं कर सकती क्योंकि न्यायालय ने कहा है कि रोजगार और पदोन्नति में आरक्षण मौलिक अधिकार नहीं है। विपक्षी सदस्यों के प्रश्नों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए श्री जोशी ने लोकसभा में बताया कि सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री बाद में सदन में बयान देंगे।

 
हालांकि विपक्ष ने इस मुद्दे पर उत्तराखंड सरकार की भूमिका का सवाल उठाया और सरकार द्वारा किये जाने वाले सुधारात्मक उपायों की मांग की। लोकसभा भोजनावकाश के लिए दो बजे तक स्थगित की गई। इससे पहले, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने कहा है कि सरकार अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के आरक्षण पर उच्चतम न्यायालय के हाल के फैसले पर आज दोपहर दो बजे राज्यसभा में अपना बयान देगी। उन्होंने कहा कि सरकार उच्चतम न्यायालय के फैसले का गंभीरता से अध्ययन कर रही है।
 
 
आज सवेरे सदन की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष ने यह मुद्दा उठाया। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजातियों के पदोन्नति में आरक्षण को समाप्त करने का प्रयास कर रही है। सभापति एक वेंकैया नायडू ने कहा कि सदन में उच्चतम न्यायालय के फैसले पर टिप्पणी और चर्चा की अनुमति नहीं दी जा सकती है। उच्चतम न्यायालय ने अपने हाल के फैसले में कहा है कि किसी का भी यह मौलिक अधिकार नहीं है कि वह पदोन्नति मे आरक्षण का दावा कर सके और न्यायालय अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति को आरक्षण देने के लिए राज्य सरकार को आदेश नहीं दे सकता।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS