ब्रेकिंग न्यूज़
सीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत कीसमस्तीपुर: एक मार्च से कोविड-19 टीकाकरण के तीसरे फेज की होगी शुरुआतमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईसमस्तीपुर : भीषण सड़क हादसे में बस व बोलेरो की हुई टक्कर, बिथान की चार छात्राओं की मौत, दर्जन भर जख्मीसमस्तीपुर: हर ब्लॉक के अस्पताल में होगी एईएस व जेई के इलाज की व्यवस्था
बिहार
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरण
By Deshwani | Publish Date: 25/6/2019 6:11:58 PM
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरण

नालंदा। बिहार में चमकी बुखार और लू की चपेट में आने से कई लोगों की मौत हो चुकी है। इसके चलते राज्य सरकार स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सवालों के घेरे में है। इस सबके बावजूद राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को शर्मसार करता एक और मामला सामने आया है जहां एक शख्स को अपने सात वर्षीय बेटे के शव को कंधे पर उठाकर सरकारी अस्पताल से घर लेकर जाना पड़ा।

 
जानकारी के अनुसार यह मामला नालंदा का है जहां एक पिता को अस्पताल प्रशासन की ओर से बच्चे का शव ले जाने के लिए एंबुलेंस तक उपलब्ध नहीं करवाई गई, मजबूरन उसे शव को कंधे पर उठाकर घर ले जाना पड़ा। इस घटना पर नालंदा के जिला मजिस्ट्रेट योगेंद्र सिंह ने कहा कि इस मामले की जांच की जाएगी। अगर किसी भी तरह की प्रशासनिक लापरवाही पाई जाती है तो उसके खिलाफ कड़ी कारवाई की जाएगी।
 
उन्होंने बताया कि अस्पताल कर्मियों का कहना है कि बच्चे के परिजन को वाहन उलब्ध कराने की बात कही थी लेकिन उस समय अस्पताल में वाहन मौजूद नहीं था इसलिए उन्हें रुकने कहा था। वे नहीं रुके और शव को लेकर चले गए।
 
ज्ञात हो कि बिहार में चमकी बुखार की चपेट में आने से अब तक 163 से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है। वहीं इस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चुप्पी साध रखी है। राज्य की खराब स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को लेकर नीतीश सरकार सवालों के घेरे में आ गई है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS