ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में डंपर के नीचे काम कर रहे मिस्त्री व बगल में खड़े चालक को ट्रक ने कुचला, दो की मौत, तीन घायलग्रामीणों की सजगता से पचरुखिया चौक पर लगे एटीएम को चुराने में असफल रहे लूटेरेसीमा चौकी रक्सौल एवं एकीकृत जांच चौकी में 70वें बैच के कस्टम अधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षणभाई ने पेश की मिसाल, रक्तदान कर बहन एंजल को दिया जन्मदिन का उपहारलोहिया की पुण्यतिथि: लोस चुनाव में हार के बाद पहली बार एक साथ दिखे महागठबंधन के सभी नेताप्रधानमंत्री मोदी ने महाबलीपुरम के समुद्र तट पर की साफ सफाई, दुनिया को दिया स्वच्छता का पैगाममोदी-शी शिखर वार्ता: कारोबार, निवेश, सेवा क्षेत्र में एक ‘तंत्र' स्थापित करने पर बनी सहमतिसंतकबीरनगर: घाघरा नदी में नाव पलटने से 18 लोग डूबे, चार लापता
मुजफ्फरपुर
नौकरी का झांसा दे होटल में बुलाकर किया रेप, मौके पर धराया
By Deshwani | Publish Date: 4/5/2017 6:19:58 PM
नौकरी का झांसा दे होटल में बुलाकर किया रेप, मौके पर धराया

मुजफ्फरपुर। देशवाणी न्यूज नेटवर्क
 

नौकरी का झांसा देकर मनियारी थाना क्षेत्र की एक किशोरी के साथ बुधवार को मोतीझील स्थित होटल पूजा में दुष्कर्म किया गया। इसकी सूचना पर नगर थानाध्यक्ष केपी सिंह महिला पुलिस अफसर के साथ पहुंचे और आरोपी को रंगे हाथ दबोच लिया। किशोरी को सुरक्षा में लेकर पुलिस ने होटल के उस कमरे को सील कर दिया।
पुलिस पूछताछ में किशोरी ने बताया कि उसे नौकरी का झांसा देकर होटल के पास बुलाया गया। युवक से किशोरी को तीन-चार महीने से जान-पहचान थी। पीड़िता शहर के एक महिला कॉलेज की छात्रा है। बताया कि आरोपित बातचीत करते हुए उसे होटल के कमरे में ले गया। उसके बाद कमरा बंद कर दुष्कर्म करने लगा।
गिरफ्तार आरोपी की पहचान सकरा थाना क्षेत्र के मिश्रौलिया इलाके के हरेराम कुमार के रूप में हुई है। इस संबंध में किशोरी के बयान पर पॉस्को एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। नगर थानेदार ने बताया कि आरोपित को जेल भेजने की कवायद की जा रही है।
प्राथमिकी दर्ज कर पीड़िता को महिला पुलिसकर्मी की अभिरक्षा में सदर अस्पताल में जांच के लिए ले जाया गया। महिला डॉक्टर ने जांच में बिलंब कर टालमटोल कर रही थीं। सूचना पर नगर थानाध्यक्ष अस्पताल पहुंचे। उन्होंने चिकित्सक से देरी का कारण पूछा। इस पर डॉक्टरों व पुलिस अफसरों में विवाद शुरू हो गया। नोकझोंक की स्थिति उत्पन्न हो गई। पुलिस का कहना है कि दोपहर ढाई बजे से शाम के पांच बजे तक जांच के नाम पर अस्पताल में पुलिस अफसर को बिठाकर रखा गया। पुलिस का कहना था कि जांच में देरी से साक्ष्य मिटने की आशंका होती है। इसका फायदा आरोपित को मिल जाएगा।
दूसरी ओर डॉक्टरों का कहना था कि अंडर एज होने के कारण दो महिला डॉक्टरों से जांच कराई जाती है। एक महिला डॉक्टर ऑन ड्यूटी थीं। दूसरी को बुलाया गया। इस कारण से जांच में कुछ समय लगा है। हालांकि बहस के बाद दोनों महिला चिकित्सकों ने किशोरी की मेडिकल जांच की।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS