ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
मुजफ्फरपुर
स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय हुआ सजग
By Deshwani | Publish Date: 24/7/2017 9:11:49 AM
स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय हुआ सजग

मुजफ्फरपुर (हि.स.)। मुजफ्फरपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही व मरीजों के बेहतर इलाज में कमी को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय सजग हो गया है। छोटी-छोटी शिकायतों को लेकर भी सीधे जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारियों को तलब किया जा रहा है। 

इसी क्रम में जिले के मीनापुर के गणेश राम ने सीएम से 12 जून को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज नहीं किये जाने की लिखित शिकायत की। उसे दस्त की समस्या थी। उसने आरोप लगाया है कि जब वह प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गया तो वहां डॉक्टरों ने कोई संज्ञान नहीं लिया। इलाज करने को कहा तो भगा दिया। इस मामले पर सीएम सचिवालय ने जिला प्रशासन को तलब किया है। जिलाधिकारी धर्मेन्द्र सिंह ने वरीय उपसमाहर्ता को मामले की जांच करने को कहा है। वरीय समाहर्ता ने सिविल सर्जन से जानकारी मांगी है।

एक दुसरे मामले में लगातार सीएम सचिवालय से आ रहे इस तरह के निर्देशों के बावजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कांटी से जानकारी नहीं मिलने पर सिविल सर्जन डॉ. ललिता सिंह ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी को तलब किया है। गौरतलब है कि कांटी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या व इलाज की व्यवस्था की जानकारी लेने के लिए मुख्यमंत्री सचिवालय ने फोन किया था, लेकिन किसी ने फोन नहीं रिसीव किया। 

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के हेल्थ प्रबंधक व पीएचसी प्रभारी का मोबाइल नंबर भी गलत मिला था। इस पर मुख्यमंत्री सचिवालय ने जबाब तलब किया था। इसको लेकर अब सिविल सर्जन ने कार्रवाई शुरू की है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS