ब्रेकिंग न्यूज़
चमकी बुखार का कहर: अबतक 69 बच्चों की मौत, एक दर्ज़न से अधिक की स्थिति नाज़ुककोपा अमेरिका के पहले मैच में ब्राजील ने बोलिविया को 3-0 से हराया, कुटिन्हो ने दो गोल किएमौनी रॉय 'बोले चूड़ियां' के बाद 'दबंग 3' से भी आउट हुईं, हैरान कर देगी वजहनक्सलियों से लोहा लेते हुए झारखंड में शहीद हुआ भोजपुर का जवान गोवर्धन, परिवार में मचा कोहरामनरेश गोयल की मुश्किलें और बढ़ी, इनकम टैक्स विभाग ने टैक्स चोरी मामले में भेजा समनसपा ने उप्र की बिगड़ रही कानून-व्यवस्था को लेकर राज्यपाल को सौंपा ज्ञापनदो गुटों में हिंसक झड़प, बमबारी और फायरिंग में तीन टीएमसी कार्यकर्ताओं की मौतनीति आयोग की बैठक में भाग लेंगे नीतीश, उठा सकते हैं बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग
मुजफ्फरपुर
स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय हुआ सजग
By Deshwani | Publish Date: 24/7/2017 9:11:49 AM
स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय हुआ सजग

मुजफ्फरपुर (हि.स.)। मुजफ्फरपुर जिले में स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही व मरीजों के बेहतर इलाज में कमी को देखते हुए मुख्यमंत्री सचिवालय सजग हो गया है। छोटी-छोटी शिकायतों को लेकर भी सीधे जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारियों को तलब किया जा रहा है। 

इसी क्रम में जिले के मीनापुर के गणेश राम ने सीएम से 12 जून को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज नहीं किये जाने की लिखित शिकायत की। उसे दस्त की समस्या थी। उसने आरोप लगाया है कि जब वह प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गया तो वहां डॉक्टरों ने कोई संज्ञान नहीं लिया। इलाज करने को कहा तो भगा दिया। इस मामले पर सीएम सचिवालय ने जिला प्रशासन को तलब किया है। जिलाधिकारी धर्मेन्द्र सिंह ने वरीय उपसमाहर्ता को मामले की जांच करने को कहा है। वरीय समाहर्ता ने सिविल सर्जन से जानकारी मांगी है।

एक दुसरे मामले में लगातार सीएम सचिवालय से आ रहे इस तरह के निर्देशों के बावजूद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कांटी से जानकारी नहीं मिलने पर सिविल सर्जन डॉ. ललिता सिंह ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी को तलब किया है। गौरतलब है कि कांटी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या व इलाज की व्यवस्था की जानकारी लेने के लिए मुख्यमंत्री सचिवालय ने फोन किया था, लेकिन किसी ने फोन नहीं रिसीव किया। 

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के हेल्थ प्रबंधक व पीएचसी प्रभारी का मोबाइल नंबर भी गलत मिला था। इस पर मुख्यमंत्री सचिवालय ने जबाब तलब किया था। इसको लेकर अब सिविल सर्जन ने कार्रवाई शुरू की है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS