ब्रेकिंग न्यूज़
चमकी बुखार का कहर: अबतक 69 बच्चों की मौत, एक दर्ज़न से अधिक की स्थिति नाज़ुककोपा अमेरिका के पहले मैच में ब्राजील ने बोलिविया को 3-0 से हराया, कुटिन्हो ने दो गोल किएमौनी रॉय 'बोले चूड़ियां' के बाद 'दबंग 3' से भी आउट हुईं, हैरान कर देगी वजहनक्सलियों से लोहा लेते हुए झारखंड में शहीद हुआ भोजपुर का जवान गोवर्धन, परिवार में मचा कोहरामनरेश गोयल की मुश्किलें और बढ़ी, इनकम टैक्स विभाग ने टैक्स चोरी मामले में भेजा समनसपा ने उप्र की बिगड़ रही कानून-व्यवस्था को लेकर राज्यपाल को सौंपा ज्ञापनदो गुटों में हिंसक झड़प, बमबारी और फायरिंग में तीन टीएमसी कार्यकर्ताओं की मौतनीति आयोग की बैठक में भाग लेंगे नीतीश, उठा सकते हैं बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग
बिहार
आत्महत्या करने वाले दरोगा की पत्नी ने एसपी पर लगाये गंभीर आरोप, जाँच की मांग
By Deshwani | Publish Date: 3/7/2017 4:18:23 PM
आत्महत्या करने वाले दरोगा की पत्नी ने एसपी पर लगाये गंभीर आरोप, जाँच की मांग

मुजफ्फरपुर, (हि.स.)। मुजफ्फरपुर के दारोगा संजय गौड़ की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। मुजफ्फरपुर में आत्महत्या करने वाले दरोगा संजय गौड़ की पत्नी ने मुजफ्फरपुर एसपी पर गंभीर आरोप लगाया है| मृतक दरोगा के पैतृक जिले सीवान के दरौली थाना को दिये गये आवेदन में मृतक की पत्नी कल्याणी ने साजिशन हत्या, हरिजन अत्याचार सहित थाना में पदस्थापन के एवज मे एसएसपी मुजफ्फरपुर द्वारा दस लाख रूपये की मांग कर छह लाख पचास हजार रूपये वसूल करने के साथ ही शेष तीन लाख पचास हजार की राशि का भुगतान नहीं होने पर दो दिनों में थानेदारी से हटा देने का सनसनीखेज आरोप लगाते हुए केस दर्ज करने का आवेदन दिया है।अब यह उच्च स्तरीय जाँच का विषय है कि पति की मौत के बाद पत्नी द्वारा जज्बात में उठाया गया कदम है या बिहार के कानून व्यवस्था की तल्ख सच्चाई, यह जांच के बाद ही पता चल पायेगा। पर एक पुलिस अधिकारी की पत्नी द्वारा लगाया गया यह सनसनीखेज आरोप काफी गंभीर एवं चिंतनीय है| वहीँ दूसरी ओर बिहार पुलिस के मुजफ्फरपुर जिला पुलिस बल में तैनात दारोगा संजय गौड़ आत्महत्या कांड में न्यायिक कमिटी का गठन कर जाँच कराए जाने की मांग बिहार पुलिस एसोसिएशन ने रखी है। इस मामले में एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह ने कहा कि कमिटी से जाँच कराना जरुरी है। उन्होंने कहा है कि जाँच के बाद दोषी जो भी हो उनपर कार्रवाई होनी चाहिए।

पुलिस विभाग की जाँच पर एसोसिएशन को भरोसा नहीं है। कारण की किसी न किसी रूप में उक्त जिले के वरीय पुलिस पदाधिकारी की संलिप्तता सामने आ सकती है। पारिवारिक कारणों से छुट्टी माँगने पर भी वरीय पदाधिकारी समय पर छुट्टी नहीं देते हैं । बेवजह अमर्यादित भाषा का उच्चारण वरीय पुलिस पदाधिकारी अपने अधीनस्थों से कर रहे हैं। बेवजह काम का प्रेसर खड़ा करते रहते हैं और अपने वातानुकूलित दफ्तर में बैठ कर फ़रमान जारी करते रहते हैं। वैसे पुलिस पदाधिकारियों को अपने अधीनस्थों से एक अभिभावक की भूमिका में पेश आना चाहिए। मुजफ्फरपुर में संजय गौड़ आत्महत्या के अलावे विगत कुछ वर्षों में कई कर्मठ पुलिस पदाधिकारी बिहार के अन्य जिलो में आत्महत्या कर चुके हैं। मालूम हो की रविवार को मुजफ्फरपुर जिले के पानापुर ओपी में पदस्थापित दारोगा संजय कुमार गौड़ ने खुद को गोली मार ली थी| मृतक दरोगा ने थाने में ही पदस्थापित एक अन्य दारोगा मो. हारून के पिस्टल से सिर में गोली मार ली थी, जिसके बाद आनन-फानन में एसकेएमसीएच भेजा गया लेकिन रास्ते में ही दम तोड़ दिया था।
 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS