ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
जरूर पढ़े
पुष्कर मेले में भीमकाय भैंसा देखने उमड़ रहे लोग, 15 करोड़ तक लगी बोली
By Deshwani | Publish Date: 6/11/2019 1:09:12 PM
पुष्कर मेले में भीमकाय भैंसा देखने उमड़ रहे लोग, 15 करोड़ तक लगी बोली

जयपुर। राजस्थान के अजमेर जिले के पुष्कर में चल रहे पशु मेले में मुर्रा नस्ल का बेशकीमती भैंसा 'भीम' आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। मेले में दूसरी बार प्रदर्शन के लिये लाये गये पौने सात साल के मुर्रा नस्ल के इस भैंसे का वजन करीब सवा कुंटल (1,300 किलोग्राम) है। 14 फुट लंबे और 6 फुट ऊंचे भीमकाय शरीर के इस भैंसें को देखने के लिये लोगों का तांता लगा हुआ है।

इस भीमकाय भैंसे को लेकर जोधपुर के जवाहर जाल जांगिड़ अपने बेटे अरविंद जांगिड़ के साथ सोमवार को पुष्कर मेला पहुंचे। अरविंद ने बताया कि भीम को 2017 में उदयपुर में एग्रोटेक मीट के दौरान पहली बार चाढे चार साल की उम्र में प्रदर्शित किया था। वहां भीम को भारत के सुपर युवराज चैंपियन को बीट करते हुए श्रेष्ठ पशु से सम्मानित किया गया था।

उन्होंने बताया कि भीम को बचपन से पाला है और इसके रखरखाव व खुराक पर करीब प्रतिमाह एक लाख रुपए खर्च हो रहा है। भीम को प्रतिदिन एक किलो घी, आधा किलो मक्खन, दो सौ ग्राम शहद, 25 लीटर दूध, सूखे मेवे आदि खिलाया जाता है।

अरविंद ने दावा किया कि भीम के लिये 2016 में सर्वप्रथम 60 लाख रूपये की आफर मिली थी जो धीरे धीरे बढ कर लगभग 15 करोड़ रूपये तक पहुंच गई हैं। वे भीम को बेचना नहीं चाहते हैं। वे मेले में भी भैंसे को बेचने के लिए नहीं बल्कि मुर्रा नस्ल के संरक्षण व संवर्धन के उद्देश्य से केवल प्रदर्शन करने के लिए लाए हैं। अरविंद ने बताया कि इससे पहले वे पिछले साल पहली बार पुष्कर मेले में भीम को लेकर आए थे।

उन्होंने बताया कि भारत में अच्छी नस्ल के पशुधन की क्षमता बहुत है लेकिन साधन और धन की कमी की वजह से अच्छी नस्ल के ब्रीड तैयार नहीं हो पाती। पुष्कर मेले में वे पहली बार इच्छुक पशुपालकों को भीम का सीमन भी उपलब्ध करा रहे हैं। मुर्रा नस्ल के इस भैंसे के सीमन की देश में बड़ी मांग है।

अंतरराष्ट्रीय पशु मेले में विभिन्न प्रजाति के करीब पांच हजार से अधिक पशु पहुंचे हैं। इनमें कई ऊंट, घोड़े और गोवंश देशी-विदेशी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. अजय अरोड़ा बताया कि अच्छी नस्ल के भैंसे का वजन आमतौर पर 600 से 700 किलोग्राम का होता है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS