ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
जरूर पढ़े
डायबिटिज का आंखों पर पड़ता है असर उपचार भी सम्भव : डॉ. कमलजीत
By Deshwani | Publish Date: 30/4/2017 1:10:23 PM
डायबिटिज का आंखों पर पड़ता है असर उपचार भी सम्भव : डॉ. कमलजीत

 इलाहाबाद। मधुमेह के सम्बन्ध में और उससे होने वाले नेत्र विकारों पर चर्चा करते रविवार की सुबह आई.एम.ए. के परिसर में आयोजित वैज्ञानिक संगोष्ठी में डॉ. कमलजीत सिंह ने कहा कि डायबिटिज का आंखों पर काफी असर पड़ता है और उसका उपचार भी सम्भव है। उन्होंने मधुमेह के बारे में एवं उससे होने वाले नेत्र विकारों के सम्बन्ध में सभी चिकित्सकों को अवगत कराया और किस प्रकार से इनका इलाज किया जा सकता है उस पर प्रकाश डाला। 

डॉ.ए.के. दत्ता ने मधुमेह की वजह से कम उम्र में ही मोतियाबिन्द हो जाने एवं उनके लक्षणों के बारे में जानकारी प्रदान की साथ ही डायबिटिक कैटरैक्ट (मोतियाबिन्द) के ऑपरेशन में जो सावधानियां बरतनी चाहिए उसके बारे में जानकारी दी और कहा कि मोतियाबिन्द का ऑपरेशन जितनी शीघ्र हो जाए उतना ही अच्छा और अधिक पक जाने का इन्तजार नहीं करना चाहिए। इसी तरह डॉ. अभिषेक सरन ने अपना व्याख्यान मधुमेह से रेटिना पर होने वाले प्रभाव और उसके उपचार के तरीके बताया। 
संगोष्ठी की अध्यक्षता ए.एम.ए. अध्यक्ष डॉ. आलोक मिश्रा ने की। वक्ता डॉ. कमलजीत सिंह, डॉ. ए.के. दत्ता और डॉ. अभिषेक सरन, नेत्र रोग विशेषज्ञों ने अपना व्याख्यान मधुमेह का आंखों पर असर, डायबिटिक कैटरैक्ट (मोतियाबिन्द) डायबिटिक रेटिनोपैथी विषय पर दिया।
संगोष्ठी का संचालन डॉ. आर.के.एस. चैहान एवं डॉ. राजेश मौर्या ने किया और भविष्य में एसे ज्ञानवर्धक संगोष्ठियां आयोजन कराने का आश्वासन दिया और अन्त में वक्ताओं एवं श्रोताओं को धन्यवाद दिया।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS