ब्रेकिंग न्यूज़
जिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनीजिले में बेहतर स्वास्थ्य एवं सुरक्षित भविष्य के लिए राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना की शुरूआत
जरूर पढ़े
सीए कोर्स में हुआ बदलाव, अब एंट्रेस पास करना नहीं होगा आसान
By Deshwani | Publish Date: 30/12/2017 1:01:28 PM
सीए कोर्स में हुआ बदलाव, अब एंट्रेस पास करना नहीं होगा आसान

इंदौर। अगर आप भी सीए की तैयारी कर रहे हैं तो ध्यान दें। क्योंकि अब चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने की राह आसान नहीं रही। इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने सीए की प्रवेश प्रक्रिया के साथ ही कोर्स में बदलाव किया है। इस बदलाव के बाद अब सीए बनना बेहद कठिन हो गया है।

गौरतलब है कि अब तक माना जाता था कि सीए एंट्रेस तो बेहद आसान है, लेकिन बाद में स्टूडेंट खुद को इसमें फंसा महसूस करता है। जबकि अब एंट्रेस पास कर पाना ही बड़ी बात होगी। कोर्स को ज्यादा वैश्विक और इंटरनेशनल अकाउंटिंग स्टैंडर्ड के अनुरूप बना दिया गया है।

इंस्टिट्यूट के राष्ट्रीय अध्यक्ष सीए नीलेश एस. विकामसे ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि बदलाव से कोर्स में प्रवेश कठिन हो जाएगा। इस प्रक्रिया के बाद अब उनका इनपुट-आउटपुट अनुपात बेहतर हो जाएगा।

अब 200 का नहीं 400 अंक का होगा ऑब्जेक्टिव

इंस्टिट्यूट अध्यक्ष ने हाल ही में यह ऐलान किया है कि हमने सीपीटी को फाउंडेशन कोर्स में बदल दिया है। पहले 200 अंकों का ऑब्जेक्टिव पेपर होता था। अब इसे 400 अंकों का कर दिया गया है। इसमें भी 200 अंकों का ऑब्जेक्टिव और 200 का सब्जेक्टिव पेपर होगा। इसके अलावा इंडस्ट्री ने कुछ सुझाव दिए हैं, उनके आधार पर कुछ नए विषय जोड़े गए हैं। इनमें बिजनेस इकोनॉमिक्स और जनरल फाइनेंशियल नॉलेज विशेष जैसे सब्जेक्ट शामिल है। फाइनल में पहले आईटी का 100 अंकों का पर्चा होता था, जिसे अब प्रैक्टिकल में शिफ्ट कर दिया गया है।

रिसर्च के बाद किए ये बदलाव

उन्होंने बताया कि छात्रों की पसंद से एक ऐच्छिक पेपर भी इस कोर्स में जोड़ा गया है। बताया जा रहा है कि तीन साल की रिसर्च के बाद ये बदलाव किए गए हैं। सीए एसोसिएशन ने यह रिसर्च की है। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS