ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
जरूर पढ़े
वीडियो गेम अवसाद से लड़ने में मददगार
By Deshwani | Publish Date: 28/3/2017 3:19:37 PM
वीडियो गेम अवसाद से लड़ने में मददगार

प्रतीकात्मक फोटोः वीडियो गेम

न्यूयॉर्क, (आईपीएन/आईएएनएस)। शोधकर्ताओं ने पाया है कि अवसाद के प्रभावी उपचार में वीडियो गेम खेलना काफी मददगार साबित हो सकता है। वीडियो गेम दिमाग को प्रशिक्षित करने में मदद करता है। शोध के निष्कर्षो से पता चलता है कि विशेष तौर पर डिजाइन किए हुए वीडियो गेम खेलने से लोगों को उनके अवसाद पर काबू पाने में मदद मिली है। इस तरह के वीडियो गेम में आंतरिक (रासायनिक असंतुलन या आनुवांशिक कारकों) या बाह्य कारकों (नौकरी या दूसरे मुद्दों या संबंधों) की वजह से होने वाले अवसाद को खत्म करने की क्षमता होती है।

अमेरिका के डेविस में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय की सुबुही खान ने कहा, “सावधानीपूर्वक बनाए गए प्रेरक संदेश के उपयोग से संदेश मिलता है कि मानसिक स्वास्थ्य वाले वीडियो गेम का अधिक व्यावहारिक विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।“शोधकर्ताओं ने जैविक कारकों के आंतरिक परिवर्तन को अवसाद की वजह बताते हुए इसमें प्रतिभागियों को वीडियो गेम आधारित एप दिमाग को प्रशिक्षित करने के लिए दिए, जिससे अपने अवसाद को नियंत्रित करने के लिए वे कुछ करें। शोधकर्ताओं ने कहा कि यह दूसरे शोधों का समर्थन करता है, जो दिखाते हैं कि मस्तिष्क प्रशिक्षण वाले खेलों में संज्ञानात्मक परिवर्तन की क्षमता होती है।
दूसरी तरफ अवसाद को बाह्य कारकों की स्थिति मानते हुए प्रतिभागियों को ज्यादा समय खेल को देने के लिए प्रेरित किया गया, जिससे फिर उन्हें अपनी स्थिति पर नियंत्रण रखने में मदद मिली। शोध में पाया गया कि वीडियो गेम खेलने से तात्कालिक प्रभाव पड़ता है लेकिन दीर्घकालिक लाभ की संभावना कम होती है। इस शोध का प्रकाशन ’कंप्यूटर्स इन ह्यूमन बिहैवियर’ में किया गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS