ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं मिली एबुलेंस, पिता को कंधे पर ले जाना पड़ा बेटे का शव, जिला मजिस्ट्रेट ने लिया संज्ञान, मांगा स्पष्टीकरणपुलिसकर्मी ही शराबबंदी कानून की घज्जियां उड़ा रहे हैं, दिन में ली शपथ तो रात में नशे की हालत में गिरफ्तारबसपा में परिवारवाद का नया अध्यायमहिला फुटबॉल विश्व कप: अमेरिका क्वॉर्टरफाइनल में, फ्रांस से होगा सामनाविश्व कप: ऑस्‍ट्रेलिया को पहला झटका, वार्नर 53 रन पर आउट, स्‍कोर 26 ओवर में 143 रनगढ़वा में भीषण सड़क हादसा, बस के खाई में गिरने से छह की मौत, 40 घायलपीएनबी घोटाला: हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी की एंटीगुवा की नागरिकता होगी रद्द, जल्द लाया जाएगा भारतआपातकाल के 44 साल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- 'लोकतंत्र के लिए संघर्ष करनेवाले नायकों को सलाम'
जरूर पढ़े
मातृत्व के दौरान भी यूं पाए कोमल व चमकदार त्वचा
By Deshwani | Publish Date: 27/1/2017 1:53:39 PM
मातृत्व के दौरान भी यूं पाए कोमल व चमकदार त्वचा

 नई दिल्ली, (आईपीएन/आईएएनएस)। गर्भावस्था के दौरान प्रसव के बाद भी स्वस्थ रहने और चमकदार त्वचा पाने के लिए आपको इसकी खास देखभाल करने और स्वस्थ आहार लेने की जरूरत है। त्वचा में चमक बनाए रखने के लिए प्राकृतिक लोशन, क्रीम जरूर लगाएं। हिमालया ड्रग कंपनी में नैचुरल प्रोडक्ट इनोवेशंस आर एंड डी से संबद्ध रिसर्च एसोसिएट सुश्रुता सी.के. ने इस संबंध में कई महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं:

- गर्भावस्था के दौरान बच्चे को बढ़ने देने के लिए जैसे-जैसे शरीर में खिंचाव पैदा होता है, ऐसे में त्वचा को सहजता व कोमलता जरूरत होती है। त्वचा के रूखेपन और खुजली से छुटकारा पाने के लिए त्वचा में नमी बरकरार रखना चाहिए। शरीर की त्वचा मुलायम बनाए रखने के लिए कोकोआ बटर युक्त मॉइश्चराइजर व बॉडी लोशन लगाएं। 

- गर्भावसथा के दौरान त्वचा में खिंचाव होने से स्ट्रेच माकर््स, रैशेज पड़ जाते हैं, पसीना आने से खुजली भी होती है। चकत्ते व निशान आम तौर पर पेट पर हो जाते हैं और यह फैलकर पैरों व छाती तक पहुंच सकते हैं। ऐसे में विशेष रूप से मां बनने वाली महिलाओं के लिए बनी एंटी-रैशेज क्रीम लाभकारी साबित होती है। इसे लगाने से खुजली नहीं होगी और यह त्वचा को नमी प्रदान करेगा और गर्भावस्था के दौरान आप सहज महसूस करेंगी। बाजार में आजकल स्ट्रेच माकर््स रोकने वाली क्रीम उपलब्ध हैं, जिसे लगाने से स्ट्रेच माकर््स पड़ने की आशंका कम हो जाती है। 

- मां बनने के बाद रोजाना मसाज (मालिश) कराने से आपके शरीर की पीड़ा दूर होगी और आराम मिलेगा। इससे रक्त संचार में सुधार होता है और शरीर मजबूत बनता है। लैवैंडर की खूशबू से समृद्ध तिल के तेल, विंटर चेरी या कंट्री मलाउ (सिडा कोर्डिफोलिया) के तेल से आपको दर्द से उबरने में मदद मिलेगी। इससे अच्छी नींद भी आती है। 

- सही से स्तनपान नहीं कराने पर निपल्स से खून निकलने या इसकी त्वचा फट जाने पर मां को दर्द महसूस हो सकता है। दस में से दो मां को निपल्स में क्रैक और सूजन का सामना करना पड़ता है, इससे दूध निकलने में भी दिक्कत होती है। नई मां कोकोम बटर युक्त निपल क्रीम लगा सकती हैं, जो निपल को मॉइश्चराइज रखेगा। जैतून का तेल लगाने से भी निपल की त्वचा कोमल रहेगी। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS