ब्रेकिंग न्यूज़
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षितमहागठबंधन से अलग हुआ रालोसपा, उपेंद्र कुशवाहा ने मायावती की बसपा के साथ मिलकर बनाया नया मोर्चाबिहारी मूल के निर्देशक अभिषेक के इस गाने मे पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे भी आ रहें हैं नज़रबिधान सभा चुनाव को लेकर रक्सौल पुलिस और नेपाल पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बैठकहाथरस गैंगरेप पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला बोला, कहा-यूपी में कानून व्यवस्था हद से ज्यादा बिगड़ चुकी हैगैंगरेप पीड़िता के भाई ने पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप, आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा की मांग कीअयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में फैसला कल, अयोध्या समेत समूचे उत्तर प्रदेश में हाई अलर्टप्रधानमंत्री मोदी ने नमामि गंगे के तहत 521 करोड़ की परियोजनाओं का उत्तराखंड में किया लोकार्पण
बिहार
पूर्व केन्द्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने पृथ्वी दिवस के अवसर पर बापू पौध शाला का उद्घाटन किया
By Deshwani | Publish Date: 9/8/2020 8:35:41 PM
पूर्व केन्द्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने पृथ्वी दिवस के अवसर पर बापू पौध शाला का उद्घाटन किया

मोतिहारी। आज पृथ्वी दिवस के अवसर पर बापू पौध शाला का उद्घाटन  सांसद, चेयरमैन-रेलवे स्टैंडिंग कमिटी सह पूर्व केन्द्रीय कृषि मंत्री  राधा मोहन सिंह के कर कमलों द्वारा सम्पन्न हुआ। यह पौध शाला जीवधारा एन.एच. के किनारे स्थित है। सांसद श्री सिंह ने एक पारिजात वृक्ष (कल्प वृक्ष) का वृक्षारोपण भी किया। 

     



इस अवसर पर श्री सिंह ने कहा कि पृथ्वी दिवस की शुरूआत इस तरह से हुई कि वर्ष 1970 के जनवरी माह में (22 जनवरी 1970) समुद्र में तीन मिलियन गैलन तेल का रिसाव हुआ था, जिसमें 10000 सी-बर्ड, डल्फिन, सील और सी-लायंस मारे गये थे। इसके बाद अमेरिकी सीनेटर गेलार्ड नेल्सन के आह्वान पर 22 अप्रैल 1970 को पहला विश्व पृथ्वी दिवस मनाया गया था। वहीं बिहार सरकार द्वारा अगस्त क्रान्ति को ध्यान में रखकर पर्यावरण की रक्षा के लिए 9 अगस्त के दिन दिन को बिहार पृथ्वी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय प्रथम बार वर्ष 2011 में लिया गया। 
  



श्री सिंह ने कहा कि हमारी परंपराओँ ने प्रकृति के साथ सौहार्द बनाकर रहने के महत्व पर बल दिया है।यह प्रकृति के प्रति हमारे आदर व्यवहार में झलकता है। यह हमारे त्यौहारों और हमारी प्राचीन कृतियों में भी दिखता है। आज इस महत्वपूर्ण अवसर पर हम सार्वभौमिक भाईचारे के प्राचीन मूल्यों को याद करते हैं। यह संस्कृत में वसुधैव कुटुम्बकम् के रूप में व्यक्त किया गया है जिसका अर्थ है विश्व एक परिवार है। महात्मा गांधी के ट्रस्टीशिप के सिद्धांत में भी यह मूल्य दिखता है। उन्होंने कहा था कि पृथ्वी प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकता पूरी करने के लिए पर्याप्त है लेकिन प्रत्येक व्यक्ति के लालच को पूरा करने के लिए काफी नहीं है।
  



उन्होंने कहा कि आज से 78 वर्ष पहले नौ अगस्त को गांधी जी ने अंग्रेजो भारत छोड़ो का नारा दिया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आज गंदगी भारत छोड़ो का नारा दिया है। गांधी जी ने यह भी कहा था कि पृथ्वी, वायु, जल और जमीन हमें विरासत में नहीं, बल्कि कर्ज के रूप में मिला है, जिसे हमें वापस करना है। पृथ्वी को हमने मां के रूप में स्वीकार किया है। पौधा लगाना और एक मां की तरह उसकी रक्षा करना हमसब का दायित्व है। जल संरक्षण भी आज की जरूरत है। सभी को चाहिए कि अधिक-से-अधिक पौधे लगाएं और धरती की रक्षा करें। 
                   



इस अवसर पर बिहार सरकार के मंत्री प्रमोद कुमार,जिला वन पदाधिकारी श्प्रभाकर झा, विधायक द्वय  सचिंद्र प्रसाद सिंह एवं श्याम बाबू यादव ,पीडी आत्मा रणवीर सिंह,अनुसूचित जाति मोर्चा के  प्रदेश उपाध्यक्ष मनोज पासवान एवं जिला महामंत्री डॉ०लाल बाबू प्रसाद के अतिरिक्त अन्य लोग उपस्थित थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS