ब्रेकिंग न्यूज़
समस्तीपुर डीएम ने कहा- जो भी दुकान व मॉल में संचालक व कर्मी बिना मास्क के पाए गए तो उस दुकान व मॉल को सील कर दिया जायेगावीरगंज पुलिस ने भारी मात्रा में नशीली दवा के साथ दो भारतीय व एक नेपाली नागरिक को किया गिरफ्तारमोतिहारी के बंजरिया में पुलिस द्वारा सील मकान से ट्रक पर लादे जा रहे बिजली विभाग से चोरी के तार के साथ वाहन मालिक सहित 7 गिरफ्ताररामगढ़वा मे 13 वर्षीय नाबालिग से घर बुला कर जबरन किया दुष्कर्म, चार नामजदसमस्तीपुर : लद्दाख में शहीद अमन की विधवा को मिली नौकरी, डीएम ने दिया नियुक्ति पत्रसमस्तीपुर : समस्तीपुर में कोरोना से युवा व्यवसायी की मौत, छह लोगों की हो चुकी है अबतक मौतमोतिहारी की छतौनी पुलिस ने लकड़ी लदे ट्रक में छुपाकर रखी भारी मात्रा में शराब जब्त की, 6 गिरफ्तार, झखिया में देनी थी डिलेवरीमोतिहारी के कल्याणपुर में पूर्व प्रमुख के पति की रड व चाकू से गोदकर हत्या, भाजपा जिलाध्यक्ष प्रकाश अस्थाना के छोटे भाई जेपी अस्थाना भी गंभीर घायल
मोतिहारी
नगर विकास एवं आवास विभाग ने रक्सौल नगर परिषद को शहर से जल निकासी की वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा
By Deshwani | Publish Date: 19/8/2019 11:00:00 PM
नगर विकास एवं आवास विभाग ने रक्सौल नगर परिषद को शहर से जल निकासी की वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा

रक्सौल। अनिल कुमार।

रक्सौल के नगरक्षेत्र में जलनिकासी की व्यवस्था सुनिश्चित करने, ड्रेनेज सिस्टम को दुरुस्त करने एवं जीबीसी कनाल के साइफन के बंद होने पर जलनिकासी का वैकल्पिक प्रबंध करने के आदेश नगर विकास एवं आवास विभाग बिहार सरकार ने दिए हैं। विभाग के विशेष सचिव ने बीते 13 अगस्त को रक्सौल नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी को इस संबंध में स्थिति का अध्ययन कर आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है।
 
 यह निर्देश डा. स्वयंभू शलभ के अभ्यावेदन के आलोक में दिया गया है। उक्त निर्देश में डा. शलभ के अभ्यावेदन में वर्णित बिदुओं के आलोक में विभाग ने नियमानुसार आवश्यक कार्रवाई किये जाने के साथ इस संबंध में जल संसाधन विभाग के पदाधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर कृत कार्रवाई से विभाग को अवगत कराने का निर्देश भी नगर परिषद को दिया है।

इस मामले में जानकारी देते हुए डा. शलभ ने बताया कि नेपाल के मुख्य द्वार पर स्थित अंतरराष्ट्रीय महत्व का कहे जानेवाले रक्सौल नगरक्षेत्र का अव्यवस्थित ड्रैनेज सिस्टम, गंदगी और जलजमाव यहां की प्रमुख समस्याओं में एक है। नालों से समुचित जल निकासी नहीं होने के कारण नालों के अंदर कूड़ा-कचरा सालोंभर जमा होकर सड़ता रहता है। बारिस में नालों का प्रदूषित पानी सड़क पर जमा होता है। दूषित पानी लोगों के घरों में भी प्रवेश करता है। सरकार के 'स्वच्छ भारत अभियान' की दृष्टि यहां तक नहीं पहुंच पाती।
नगर परिषद क्षेत्र के अंदर स्थित जीबीसी कनाल के साइफन के बंद होने से हालात ज्यादा बिगड़ गए हैं। नहर रोड के उत्तर स्थित सभी वार्डों में जलजमाव की समस्या बनी हुई है। इस साइफन से होकर नगर क्षेत्र का अधिकतम पानी दक्षिण की ओर निकलता था। 
डा. शलभ ने आगे कहा कि अभी विभाग ने सकारात्मक संकेत दिया है। नगर परिषद को साइफन से जलनिकासी के वैकल्पिक प्रबंध के साथ पूरे नगर के ड्रेनेज का नया प्रोपोजल बनाकर विभाग को भेजना है।डा. शलभ ने इस पत्र के आलोक में अनुमंडल पदाधिकारी, नप कार्यपालक अधिकारी एवं नप सभापति से शीघ्र आवश्यक कदम उठाने का आग्रह किया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS