ब्रेकिंग न्यूज़
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा की आतंकवाद को अपनी कार्य नीति का हिस्सा बना लिया पाकिस्तानसरकार अर्थव्‍यवस्‍था को फिर से पटरी पर लाने के लिए और उपाय कर रही: निर्मला सीतारमन्कुशीनगर में बुद्ध महापरिनिर्वाण मंदिर के समीप नया गेट बनवाने पर कई अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्जजन अधिकार छात्र परिषद के प्रदेश अध्यक्ष गौतम आनंद को किया गया बर्खास्‍तझारखंड विधानसभा चुनाव: दूसरे चरण की 20 सीटों पर मतदान जारीबिहार में बलात्‍कारियों को गोली मारने वालों को पप्‍पू यादव देंगे 5 लाख, कहा-हैदराबाद एनकाउंटर टीम को देंगे 50-50 हजारभारत ने आज 13वें दक्षिण एशिया खेलों में 2 स्वर्ण सहित 12 पदक जीतेपॉक्‍सो अधिनियम के तहत दोषियों के लिए नहीं होना चाहिए दया याचिका का प्रावधान: रामनाथ कोविंद
मोतिहारी
चिरैया के खड़तरी गांव में बाढ़ शरणार्थियों का खत्म हुआ राशन, खबर लेने नहीं आ रहे नेता व प्रशासन के अधिकारी
By Deshwani | Publish Date: 18/7/2019 9:12:06 PM
चिरैया के खड़तरी गांव में बाढ़ शरणार्थियों का खत्म हुआ राशन, खबर लेने नहीं आ रहे नेता व प्रशासन के अधिकारी

चिरैया। अर्चना रंजन।

बाढ़ के कारण खड़तड़ी मध्य विद्यायल में शरण लिए दर्जनों परिवार को भोजन व अन्य सुविधाएं मुहैया नहीं है। इनके राशन अब खत्म हो चुके हैं। इनका कहना है कि वोट के समय सभी दलों के लोग रोज-रोज आते थे। बाढ़ में फंसें हैं तो झांकने तक नहीं आ रहे।

खड़तरी गांव के दुसाध टोली कॉलनी में दर्जनों परिवार पिछले कई दिनों से राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी में शरण लिए हुए हैं। इन बाढ़ शरणार्थियों को कोई देखने और पूछने वाला नहीं है।  लगातार हुई बारिश के कारण घुसे बाढ़ के पानी के कारण वहां के लोगों ने राजकीय मध्यविद्यालय में शरण ली है। बताया गया है कि इन शरणार्थियों को भोजन व अन्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। । इन बाढ़ पीड़ितों ने बताया कि उनके घरों में रखे खाने-पीने का बहुत सारा सामान पानी में सड़ गया। साथ ही मवेशियों का चारा भी पानी में डूब गया है। वहीं पूरा क्षेत्र बाढ़ से जलमग्न होने के कारण उनके मवेशियों के लिए चारा नही मिल पा रही है। जिससे मवेशियों जा भी बुरा हाल है।

 शुरुआती दौर में हुई मूसलाधार बारिश के कारण इन दलित परिवार के कॉलनी में पानी घुस गया था। इसके बाद से इस कॉलनी की सभी महिलाएं और और पुरुष को अपना घर छोड़ राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी के भवन में शरण लेना पड़ा था। सभी 12 जुलाई से राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी में शरण लिए हुए हैं और अब बूढ़ी गंडक की पानी उनके घर में घुस गया है। सभी के घरों में कमर भर पानी है। इसके बाबजूद आज तक जिला प्रशासन से लेकर प्रखंड प्रशासन तक इन बाढ़ पीड़ित शरणार्थियों की सुधि नहीं ली है। 

मध्य विद्यालय खड़तरी में ललन पासवान, महादेव पासवान, रामविनय पासवान, मनोज पासवान, वकील पासवान, दहाऊर पासवान, जगदेव पासवान, श्रीकिशुन पासवान, लखिन्द्र पासवान, प्रेम पासवान, हरि पासवान, महेंद्र पासवान, धनेश्वर पासवान, अकलू पासवान, राघो पासवान, यदावलाल पासवान, रामरूप पासवान, लखिन्द्र पासवान, सिकिंदर पासवान, इंदल पासवान, मुकेश पासवान, रूपन पासवान, रामअयोध्या पासवान व प्रभु पासवान आदि सहित दर्जनों परिवार ने यहां आसरा लिया है। इन बाढ़ पीड़ितों ने  बताया कि चुनाव के समय प्रशासन से लेकर नेता तक सभी दलित बस्ती का दौरा करते हैं। लेकिन बाढ़ की मुसीबत झेल रहे पीड़ितों को आज देखने वाला कोई नहीं है। इन बाढ़ पीड़ितों ने बताया कि उनके घरों में रखे खाने पीने का बहुत सारा सामान पानी में सड़ गया। साथ हीं मवेशियों का चारा भी पानी में डूब गया है। वहीं पूरा क्षेत्र बाढ़ से  जलमग्न होने के कारण उनके मवेशियों के लिए चारा नही मिल पा रही है। जिससे मवेशियों जा भी बुरा हाल है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS