ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में मोतिहारी की आदापुर पुलिस ने पाच करोड़ की चरस के साथ पांच नेपाली नागरिक को पकड़ाजिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनी
मोतिहारी
चिरैया के खड़तरी गांव में बाढ़ शरणार्थियों का खत्म हुआ राशन, खबर लेने नहीं आ रहे नेता व प्रशासन के अधिकारी
By Deshwani | Publish Date: 18/7/2019 9:12:06 PM
चिरैया के खड़तरी गांव में बाढ़ शरणार्थियों का खत्म हुआ राशन, खबर लेने नहीं आ रहे नेता व प्रशासन के अधिकारी

चिरैया। अर्चना रंजन।

बाढ़ के कारण खड़तड़ी मध्य विद्यायल में शरण लिए दर्जनों परिवार को भोजन व अन्य सुविधाएं मुहैया नहीं है। इनके राशन अब खत्म हो चुके हैं। इनका कहना है कि वोट के समय सभी दलों के लोग रोज-रोज आते थे। बाढ़ में फंसें हैं तो झांकने तक नहीं आ रहे।

खड़तरी गांव के दुसाध टोली कॉलनी में दर्जनों परिवार पिछले कई दिनों से राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी में शरण लिए हुए हैं। इन बाढ़ शरणार्थियों को कोई देखने और पूछने वाला नहीं है।  लगातार हुई बारिश के कारण घुसे बाढ़ के पानी के कारण वहां के लोगों ने राजकीय मध्यविद्यालय में शरण ली है। बताया गया है कि इन शरणार्थियों को भोजन व अन्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं। । इन बाढ़ पीड़ितों ने बताया कि उनके घरों में रखे खाने-पीने का बहुत सारा सामान पानी में सड़ गया। साथ ही मवेशियों का चारा भी पानी में डूब गया है। वहीं पूरा क्षेत्र बाढ़ से जलमग्न होने के कारण उनके मवेशियों के लिए चारा नही मिल पा रही है। जिससे मवेशियों जा भी बुरा हाल है।

 शुरुआती दौर में हुई मूसलाधार बारिश के कारण इन दलित परिवार के कॉलनी में पानी घुस गया था। इसके बाद से इस कॉलनी की सभी महिलाएं और और पुरुष को अपना घर छोड़ राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी के भवन में शरण लेना पड़ा था। सभी 12 जुलाई से राजकीय मध्य विद्यालय खड़तरी में शरण लिए हुए हैं और अब बूढ़ी गंडक की पानी उनके घर में घुस गया है। सभी के घरों में कमर भर पानी है। इसके बाबजूद आज तक जिला प्रशासन से लेकर प्रखंड प्रशासन तक इन बाढ़ पीड़ित शरणार्थियों की सुधि नहीं ली है। 

मध्य विद्यालय खड़तरी में ललन पासवान, महादेव पासवान, रामविनय पासवान, मनोज पासवान, वकील पासवान, दहाऊर पासवान, जगदेव पासवान, श्रीकिशुन पासवान, लखिन्द्र पासवान, प्रेम पासवान, हरि पासवान, महेंद्र पासवान, धनेश्वर पासवान, अकलू पासवान, राघो पासवान, यदावलाल पासवान, रामरूप पासवान, लखिन्द्र पासवान, सिकिंदर पासवान, इंदल पासवान, मुकेश पासवान, रूपन पासवान, रामअयोध्या पासवान व प्रभु पासवान आदि सहित दर्जनों परिवार ने यहां आसरा लिया है। इन बाढ़ पीड़ितों ने  बताया कि चुनाव के समय प्रशासन से लेकर नेता तक सभी दलित बस्ती का दौरा करते हैं। लेकिन बाढ़ की मुसीबत झेल रहे पीड़ितों को आज देखने वाला कोई नहीं है। इन बाढ़ पीड़ितों ने बताया कि उनके घरों में रखे खाने पीने का बहुत सारा सामान पानी में सड़ गया। साथ हीं मवेशियों का चारा भी पानी में डूब गया है। वहीं पूरा क्षेत्र बाढ़ से  जलमग्न होने के कारण उनके मवेशियों के लिए चारा नही मिल पा रही है। जिससे मवेशियों जा भी बुरा हाल है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS