ब्रेकिंग न्यूज़
अमिताभ बच्चन हुए कोविड-19 पोजिटिव, अस्पताल में भर्ती, शुभचिंतक कर रहें स्वस्थ्य होने की प्रार्थनापश्चिम चम्पारण के बगहा में नक्सली-एसटीएफ मुठभेड़ में 4 नक्सली हुए ढेरसमस्तीपुर : बेखौफ अपराधियों ने घर में घुस युवक को गोली मार की हत्यानेपाल पुलिस ने गांजा के साथ एक युवक को किया गिरफ्तारसमस्तीपुर : तीन बैंक अधिकारी सहित 21 कोरोना संक्रमित, संख्या पहुंची 380मोतिहारी के चकिया में एक ही मुहल्ले के पांच किशोरों की डूबकर हुई मौत, एनडीआरफ की आठ सदस्यीय टीम ने शवों को ढूढ़ा, मातमकोरोना बीमारी से जंग के लिए नहीं उठे उचित कदम : शरद यादवप्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण अन्‍न योजना को नवंबर तक बढाने की मंत्रिमंडल ने दी मंजूरी
बिहार
किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, उत्तर बिहार में 14 जुलाई तक होगी झमाझम बारिश, मौसम विज्ञान विभाग ने दिए संकेत
By Deshwani | Publish Date: 10/7/2019 11:37:38 AM
किसानों के लिए बड़ी खुशखबरी, उत्तर बिहार में 14 जुलाई तक होगी झमाझम बारिश, मौसम विज्ञान विभाग ने दिए संकेत

मोतिहारी

पीपराकोठी। सौरभ राज। पूरे उत्तर बिहार में अगले 14 जुलाई तक मानसून के सक्रिय रहने का अनुमान है। ग्रामीण कृषि मौषम सेवा, डा राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा, एवं भारत मौषम विज्ञान विभाग द्वारा जारी पूर्वानुमान मौषम के अनुसार 10 से 14 जुलाई तक मानसून सक्रिय रहेगा। जिसके प्रभाव में आसमान में बादल छाये रहेंगे। अगले तीन से चार दिनों के दौरान अधिकांश स्थानों पर गरज वाले बादल बनने के साथ भारी बारिश होने का अनुमान है।
 
 इस दौरान अधिकतम तापमान 26 से 29 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा, जबकि न्यूनतम
तापमान 22 से 24 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगी। इस अवधि में मुख्यतः पुरवा हवा 17 से 20 किलोमीटर प्रति घण्टा की रफ्तार से रहने का अनुमान है। जबकि सापेक्ष आद्रता सुबह में 90 से 95 प्रतिशत तथा दोपहर में 65 से 90 प्रतिशत रहने की संभावना है।
 
 कृषि विज्ञान केंद्र के मौषम वैज्ञानिक नेहा पारेख ने कहा कि किसान जुलाई माह के इस सप्ताह में वर्षा की संभावना को देखते हुए धान की रोपाई के लिए वर्षा जल का संग्रह करें. अपने खेतों के मेड़ को मजबूत करें। जिस किसान के पास धान का बिजड़ा तैयार हो गया है वे नीची तथा मध्यम जमीन में रोपाई आरंभ कर दे। 
 
धान की रोपाई के समय उर्वरकों का प्रयोग मिट्टी जांच के आधार पर ही करना बेहतर होगा। अगर मिट्टी जांच नहीं कराई गई है तो मध्यम एवं लंबी अवधि वाले किस्मो के लिए 30 किलोग्राम नेत्रजन, 60 किलोग्राम स्फुर एवं 30 किलोग्राम पोटाश के साथ 25 किलोग्राम जिंक सल्फेट या 15 किलोग्राम प्रति हैक्टर चिलेटेड जिंक का प्रयोग करें।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS