ब्रेकिंग न्यूज़
ड्रग्स मामला: रिया-शौविक की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, बॉम्बे हाई कोर्ट ने फैसला रखा सुरक्षितमहागठबंधन से अलग हुआ रालोसपा, उपेंद्र कुशवाहा ने मायावती की बसपा के साथ मिलकर बनाया नया मोर्चाबिहारी मूल के निर्देशक अभिषेक के इस गाने मे पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे भी आ रहें हैं नज़रबिधान सभा चुनाव को लेकर रक्सौल पुलिस और नेपाल पुलिस अधिकारियों के बीच हुई बैठकहाथरस गैंगरेप पर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर हमला बोला, कहा-यूपी में कानून व्यवस्था हद से ज्यादा बिगड़ चुकी हैगैंगरेप पीड़िता के भाई ने पुलिस पर लगाया लापरवाही का आरोप, आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा की मांग कीअयोध्या के विवादित ढांचा विध्वंस मामले में फैसला कल, अयोध्या समेत समूचे उत्तर प्रदेश में हाई अलर्टप्रधानमंत्री मोदी ने नमामि गंगे के तहत 521 करोड़ की परियोजनाओं का उत्तराखंड में किया लोकार्पण
बिहार
मधुबनी में आसमान से गिरा 15 किलो का विचित्र पत्थर, मुख्यमंत्री ने लिया बड़ा निर्णय
By Deshwani | Publish Date: 24/7/2019 1:41:09 PM
मधुबनी में आसमान से गिरा 15 किलो का विचित्र पत्थर, मुख्यमंत्री ने लिया बड़ा निर्णय

मधुबनी। बिहार के मधुबनी में उस समय अजीबोगरीब घटना घटी जब आसमान से एक 15 किलो का विचित्र पत्थर नीचे गिरा। माना जा रहा है कि यह पत्थर किसी दूसरे ग्रह का टुकड़ा या फिर किसी उल्का से गिरा अवशेष हो सकता है। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस पत्थर को पटना स्थित बिहार संग्रहालय में रखने की बात कही है।

 
जानकारी के अनुसार, जिले के लौकही थाना स्थित कौरयाही गांव के भगवानपुर चौड़ी में धान के खेत में अचानक आसमान से एक 15 किलो का पत्थर गिरा। ग्रामीणों का कहना है कि उसके गिरने की आवाज लगभग पांच किलोमीटर तक सुनाई दी। घटना की जानकारी मिलते ही पत्थर को देखने के लिए आसपास के गांवों के लोगों की भीड़ जुटने लगी।
 
स्थानीय लोगों ने उक्त पत्थर को निकट के ही एक पीपल वृक्ष के नीचे रखकर पूजा अर्चना शुरू कर दी थी। घटना की सूचना मिलने पर लौकही थानाध्यक्ष अरविंद कुमार, अंचल अधिकारी त्रिपुरारी श्रीवास्तव, प्रखंड प्रमुख वरुण कुमार मौके पर पहुंच कर उक्त पत्थर को अपने कब्जे में लेकर उसे थाना ले आए। बाद में डीएम के आदेश पर  सोमवार की रात अंचलाधिकारी ने उसे जिला कोषागार में ले जाकर सुरक्षित रखवा दिया था। 
 
वहीं स्थानीय रामकृष्ण महाविद्यालय के भूगोल विभाग के अतिथि शिक्षक प्रो. अमित कुमार ने इस संबंध में कहा कि उल्का पिंड ग्रह के टुकड़े होते हैं तथा यह स्वतंत्र अवस्था में ब्रह्मांड में घूमते रहते हैं। उल्कापिंड ब्रह्मांड में करोड़ों - अरबों की संख्या में मौजूद होते हैं तथा यह घूमते-घूमते कभी-कभी पृथ्वी की गुरुत्वकार्षण शक्ति के कारण पृथ्वी के वायुमंडल में प्रवेश कर जाते हैं एवं तेजी से पृथ्वी पर गिरने लगते हैं। वहीं जिला प्रशासन ने उस पत्‍थर को जब्‍त कर लिया है। डीएम ने इसकी जांच के लिए विभाग के प्रधान सचिव को पत्र लिखा है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS