ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
बिहार
नेशनल मेडिकल कमीशन ने मधेपुरा के जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज को दी एमबीबीएस पढ़ाई की मान्यता
By Deshwani | Publish Date: 3/11/2020 5:36:23 PM
नेशनल मेडिकल कमीशन ने मधेपुरा के जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज को दी एमबीबीएस पढ़ाई की मान्यता

पटना।  जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल मधेपुरा में एमबीबीएस की पढ़ाई की मान्यता मिल गई है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय नेबताया है कि नेशनल मेडिकल कमीशन ने एक सौ सीटों पर एमबीबीए की पढ़ाई की मंजूरी दी है।

 

बताया गया है कि फिलहाल एक वर्ष के लिए मान्यता दी गई है। अगले सत्र में नामांकन की अनुमति मेडिकल एस्सेमेंट एंड रेटिंग बोर्ड से लेना अनिवार्य होगा। 


781.25 करोड़ रुपए की लागत से सबैला में बने 500 बेड के जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इसी सत्र से एमबीबीएस की पढ़ाई को एमसीआई से हरी झंडी मिल गई है। 100 करोड़ से अधिक रुपए की अत्याधुनिक मेडिकल मशीन भी यहां लगी हैं। लंबे जद्दोजहद के बाद सोमवार को ही एमसीआई से पत्र जारी कर दिया। जानकारी देते हुए मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉक्टर गौरीकांत मिश्र ने बताया कि कोसी और सीमांचल क्षेत्र के लिए आज गौरव का दिन है। एमसीआई से मान्यता संबंधित लेटर ऑफ परमिशन मिल गया है। 


शीध्र ही आगे की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। प्राचार्य ने बताया कि एमसीआई के सचिव डॉ. आरके वत्स द्वारा पत्र में कहा गया है कि जननायक कर्पूरी ठाकुर मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल को बिहार नेशन मेडिकल कमीशन की मेडिकल एसेसमेंट एंड रेटिंग बोर्ड ने औपचारिक अनुमति (फॉरमल परिमशन) देने का निर्णय लिया है। इसके तहत 100 छात्र-छात्राओं का नामांकन सत्र 2020-21 से लिया जा सकता है। यह अनुमति प्रारंभिक तौर पर मात्र एक वर्ष के लिए दी गई है। अगले सत्र में नामांकन की अनुमति मेडिकल एस्सेमेंट एंड रेटिंग बोर्ड से लेना अनिवार्य होगा। 

छात्रों के नामांकन में 15 प्रतिशत कोटा अखिल भारतीय स्तर पर आवंटित किया गया है। मार्च में शुरू किया गया था अस्पताल: विदित हो कि वर्ष 2008 में मधेपुरा में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा होने के बाद 6 जून 2013 में इसका शिलान्यास किया गया था। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS