ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरल
झारखंड
वीर कुंवर सिंह की 140वीं जयंती मनाई गई
By Deshwani | Publish Date: 23/4/2017 1:57:19 PM
वीर कुंवर सिंह की 140वीं जयंती मनाई गई

लोहरदगा, (हि.स.)। लोहरदगा में रविवार को स्वातंत्रता सेनानी और महान योद्धा बाबू वीर कुअंर सिंह की 140वीं जयंती मनाई गई। डिवाइन स्पार्क पब्लिक स्कूल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथिअमर शहीद जगरनाथ शाहदेव सामाजिक उन्नयन न्यास लोहरदगा के अध्यक्ष राजेंद्र प्रताप देव ने कहा कि बाबू वीर कुंवर सिंह महान स्वतंत्रता सेनानी और अमर योद्धा थे। अंग्रेजों उनसे खौप खाते थे।

देव ने कहा कि कुंवर सिंह में अदभुत संगठन क्षमता थी। उन्होंने बिहार, मध्यप्रदेश और उत्तरप्रदेश जैसे प्रांतों के आंदोलनकारियों को संगठित कर अंग्रेजों के विरुद्ध एकजुट किया। छोटानागपुर विशेष कर लोहरदगा से उनका खास लगाव था। उनकी छोटी बहन रुपम कुंवर का विवाह लोहरदगा के हेसापीढ़ी निवासी ठाकुर जगरनाथ शाहदेव के साथ हुआ था।

जब कुंवर सिंह अपने बहन-बहनोई से मिल कर जगदीश पुर लौट रहे थे। उसी दौरान षड्यंत्र के तहत अंग्रेजों उन्हें पकड़ कर फांसी दे दी। इस घटना के बाद रुपम कुंवर सती हो गई। गुदरी बाजार के निकट ठाकुरबाडी मंदिर परिसर आज भी सती मंदिर है। उन्होंने कुंवर सिंह के जीवन वृतांत से बच्चों अवगत करवाया।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS