ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
राहत कार्य तेजी से चलाने का निर्देश
By Deshwani | Publish Date: 27/7/2017 6:05:37 PM
राहत कार्य तेजी से चलाने का निर्देश

लोहरदगा, (हि.स.)। डीसी विनोद कुमार की अध्यक्षता में समाहरणालय के सभाकक्ष में प्राकृतिक आपदा से निपटने को लेकर आपातकालीन बैठक की गई। बैठक में डीसी ने तमाम अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया कि किसी भी हालत में किसी को क्षति न होने पाए। आपदा के तहत समुचित राहत की व्यवस्था करने का भी निर्देश दिया। डीसी ने कहा कि अधिकारी विभिन्न स्त्रोतों से जानकारी प्राप्त करें और राहत कार्य शुरू करें। जिले में स्थिति नियंत्रण में है। इसके बावजूद पूरी तत्परता के साथ राहत कार्य चलाना है।
डीसी ने सख्त लहजे में कहा कि सरकारी कर्मी यदि जानकारी के बावजूद किसी तरह की क्षति की जानकारी नहीं देते हैं तो उन पर कारवाई की जायेगी। सभी कर्मियों को अपने-अपने पंचायत में रहना है। रिलिफ कार्य में विलंब न हो। अंचल अधिकारियों को संबोधित करते हुए डीसी ने कहा कि यदि किसी का घर गिरा है तो उसे तत्काल अनुदान की राशि दी जाए। कागजी प्रक्रिया बाद में होती रहेगी। डीसी ने तमाम अधिकारियों को निर्देश दिया कि सभी लोग तत्परता एवं संवेदनशीलता के साथ काम करें। कहीं से किसी घटना की सूचना मिलती है तो अधिकारी तत्काल घटनास्थल पर पहुंचे। 
डीसी ने सिविल सर्जन डॉ पैट्रिक टेटे को निर्देश दिया कि सदर अस्पताल सहित अन्य स्वास्थ्य केंद्रों में बरसात जनित बीमारियों एवं सांप, बिच्छू काटने की दवाईयां तैयार रखे। स्वास्थ्यकर्मी निश्चित रूप से अस्पताल एवं स्वास्थ्य केंद्र में उपस्थित रहे। एएनएम सहित अन्य लोग क्षेत्र में भ्रमण करें और स्थिति पर नजर रखे। ब्चीचिंग पाउडर एवं मलेरिया रोधी दवा का छिड़काव की व्यवस्था करें। बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता जेम्स कुजूर को डीसी ने निदेश दिया कि जहां तार क्षतिग्रस्त है वहां की बिजली बंद कर उसे दुरूस्त करें। टूटे तार में करेंट न हो इसका खास ख्याल रखे। किसी को नुकसान नहीं होना चाहिए। बिजली की व्यवस्था दुरूस्त करें।
 
बैठक में डीसी ने कहा कि सभी अंचल अधिकारियों को तत्काल एक-एक लाख रूपया दिया जा रहा है, जिनका भी घर क्षतिग्रस्त हुआ है उन्हें राशि दी जाए। साथ ही 30-30 हजार रूपये आकस्मिक प्रबंधन के लिए दिया जा रहा है। डीसी ने कहा कि जो लोग घर गिरने से बेघर हो गये हैं उन्हें सरकारी भवन में रखे, जिनके पास अनाज नहीं है उनकी भोजन की व्यवस्था करें। यदि घर गिरने से किसी का सारा सामान खत्म हो गया है तो उनके लिए वस्त्र की भी व्यवस्था करें। डीसी ने आदिम जनजातियों का विशेष ध्यान देने का निर्देश दिया है।पेशरार इलाके के केकरांग, कोयनार टोली की सड़क एवं पुलिया जर्जर हो गयी है। उसकी मरम्मति का निर्देश भी पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता को दिया और कहा कि शीघ्र ही मार्ग को दुरूस्त करें। आरइओ के कार्यपालक अभियंता को ग्रामीण इलाकों की सड़कों एवं पुलियों की मरम्मति का निर्देश दिया गया। 
 
मौके पर अपर समाहर्त्ता रंजित कुमार सिन्हा, एसडीओ राज महेश्वरम, पेयजल स्वच्छता विभाग के कार्यपालक अभियंता रेयाज आलम, बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता जेम्स कुजूर, पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता, आरइओ के कार्यपालक अभियंता, सिविल सर्जन डा पैट्रिक टेटे, आपदा प्रबंधन पदाधिकारी विभाकर कुमार, सहित सभी प्रखंडों के बीडीओ और सीओ सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी मौजूद थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS