ब्रेकिंग न्यूज़
आईएएस से छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले अजीत जोगी नहीं रहें, प्रधानमंत्री मोदी व सीएम नीतीश ने जताई गहरी शोक संवेदनामोतिहारी के चकिया में दो प्रवासी कामगारों की एक्सीडेंट में हुई मौत, बाइक पर सवार हो दिल्ली से जा रहे थे दरभंगा, रास्ते में हुई दुर्घटनामोतिहारी की पीपराकोठी में एसएसबी ने करीब 2 करोड़ मूल्य की मॉरफीन पकड़ी, वाहन जब्त, ड्राइवर भी गरफ्तारदेश के अलग-अलग हिस्सो से रक्सौल आए 470 लोगों को किया गया होम क्वारेंटाइनरक्सौल शहर के नागारोड में पुलिस ने छापेमारी कर 100 बोतल नेपाली शराब व 2 किलो 700 ग्राम गांजा किया जप्तसमस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी में मिली लापता किशोर की लाशश्रमिक स्पेशल ट्रेन में प्रसव पीड़ा पर पहुंची मेडिकल टीम, बच्ची ने ली जन्मपुणे से आए प्रवासी की क्वारंटाइन सेंटर में मौत
झारखंड
कंदनी नदी उफान पर, बक्सी का संपर्क टूटा
By Deshwani | Publish Date: 25/7/2017 8:32:14 PM
कंदनी नदी उफान पर, बक्सी का संपर्क टूटा

लोहरदगा,  (हि.स.)। कैरो प्रखंड क्षेत्र के कंदनी नदी में आयी बाढ़ के बाद आदिवासी बहुत गांव बक्सी के लोगों का संपर्क प्रखंड मुख्यालय एवं अन्य गांवों से कट गया है। इस गांव में 100 परिवारों में लगभग 1500 जनसंख्या निवास करती है। गांव से नहीं निकल पाने के कारण लोगों के पास खाने पीने की समस्या उत्पन्न हो गयी है। बक्सी गांव पहाड़ की तलहटी पर बसा गांव है, जहां सिर्फ आदिवासी समुदाय के लोग रहते हैं। यहां के लोग पूरी तरह से कैरो पर निर्भर हैं। इस गांव में न तो कोई दुकान है और न ही कोई अन्य सुविधा। नदी में पानी भर जाने के बाद इन लोगों को गांव से निकलना मुश्किल हो रहा है। गांव के लोगों का गांव से निकलने का मात्र एक रास्ता कंदनी नदी होते हुए है, जो बाढ़ आने के बाद बंद हो गया है।
सूखे मौसम में तो इस गांव के लोग पहाड़ के किनारे-किनारे किसी प्रकार गांव से ढ़ाबे के रास्ते निकलते हैं। लेकिन बरसात पहुंचते ही यह रास्ता बंद हो जाता है। नदी में जब तक बाढ़ नहीं आता लोग किसी प्रकार जान जोखिम में डालकर अपने गांव पहुंचते हैं लेकिन नदी में ज्यादा पानी हो जाने के बाद इस गांव के लोगों का निकलना मुश्किल हो जाता है। खेती के इस मौसम में गांव से नहीं निकल पाने से किसान खाद सहित अन्य खाद्य सामान भी नहीं खरीद पा रहे हैं। इस गांव के लोग लंबे समय से नदी में पुल निर्माण की मांग कर रहे हैं > लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई लाभ नहीं हुआ है। नदी में ज्यादा पानी बढ़ जाने के कारण इस गांव के बच्चों को तीन महीने स्कूल बंद कर देना पड़ता है। इस गांव के विद्यार्थी कैरो स्कूल में पढ़ाई करते हैं।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS