ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी अभियंत्रण महाविद्यालय में प्राध्यपकों पर हमला व तोड़फोड़, कॉलेज छात्रों के विरूद्ध एफआईआर, कॉलेज व होस्टल में अगले आदेश तक छुट्टीमोतिहारी के छतौनी में स्पोर्स्टस क्लब मैदान से आर्म्स के साथ 4 गिरफ्तार, एसपी ने कहा-अपराध के लिए जुट थे हथियारों के सौदागरकेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने नागालैंड में मोन मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखीराष्ट्रपति ने गुरु रविदास जयंती की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामनाएं दींनई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में खेलों को एक गौरवपूर्ण स्थान दिया गया है : प्रधानमंत्रीसीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत की
झारखंड
पेयजल व स्वच्छता कार्यालय का औचक निरीक्षण
By Deshwani | Publish Date: 12/7/2017 5:26:25 PM
पेयजल व स्वच्छता कार्यालय का औचक निरीक्षण

लोहरदगा, (हि.स.)। डीसी विनोद कुमार ने बुधवार को पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल के कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में कार्यालय के अधिकांश पदाधिकारी, कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। वहां की स्थिति देखकर उपायुक्त अचंभित रह गये। उन्होंने कहा कि कार्यालय अवधि 10 बजे से 5 बजे तक है और 11.45 बजे तक कार्यालय में कर्मी नहीं पहुंचे हैं, यह दुखद स्थिति है। डीसी के औचक निरीक्षण में कम्प्यूटर ऑपरेटर नवीन कुमार, जगदीश लोहरा, परामर्शी आईईसी एंड एचआरडी परवेज आलम, लिपिक दिनेश कुमार, कोषरक्षक मंगरा तिग्गा, अनुसेवक राधा महली और आदेशपाल मंजू कुमारी अनुपस्थित पाये गये। 
उपायुक्त ने निर्देश दिया कि माह जुलाई 2017 का पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल के सभी पदाधिकारी, कर्मचारियों का बायोमैट्रिक उपस्थिति अधोहस्ताक्षरी के समक्ष उपस्थापित किया जायेगा। डीसी के आदेश के बाद ही माह जुलाई 2017 का वेतन भुगतान की कार्रवाई की जायेगी। तत्काल अनुपस्थित पदाधिकारियों, कर्मचारियों से स्पष्टीकरण प्राप्त कर अपने मंतव्य के साथ दो दिनों के अंदर भेजना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि विगत 11 जुलाई को प्रधान सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के समीक्षा बैठक में दिये गये निर्देशों का शत प्रतिशत पालन करना अनिवार्य है अन्यथा कार्रवाई की जायेगी।
गौरतलब है कि लोहरदगा जिला में अधिकांश अधिकारी कर्मचारी ट्रेन से रांची लोहरदगा आना जाना करते हैं। रांची से लोहरदगा 11.30 बजे अधिकारी कर्मचारी पहुंचते हैं और 1.30 बजे के बाद ट्रेन से वापस रांची चले जाते हैं। ऐसे में सरकारी कार्यालयों में कोई काम नहीं हो पाता है। डीसी ने कई बार लोगों को आदेश दिया, लेकिन उपायुक्त के आदेश को लोगों ने हल्के में लिया और अब जनता की परेशानियों को देखते हुए डीसी ने कार्यालयों के औचक निरीक्षण का सिलसिला शुरू किया है। डीसी के इस कार्रवाई के बाद जिले के भगोड़े अधिकारियों व कर्मचारियों में हड़कंप मचा है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS