ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
पेयजल व स्वच्छता कार्यालय का औचक निरीक्षण
By Deshwani | Publish Date: 12/7/2017 5:26:25 PM
पेयजल व स्वच्छता कार्यालय का औचक निरीक्षण

लोहरदगा, (हि.स.)। डीसी विनोद कुमार ने बुधवार को पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल के कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में कार्यालय के अधिकांश पदाधिकारी, कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। वहां की स्थिति देखकर उपायुक्त अचंभित रह गये। उन्होंने कहा कि कार्यालय अवधि 10 बजे से 5 बजे तक है और 11.45 बजे तक कार्यालय में कर्मी नहीं पहुंचे हैं, यह दुखद स्थिति है। डीसी के औचक निरीक्षण में कम्प्यूटर ऑपरेटर नवीन कुमार, जगदीश लोहरा, परामर्शी आईईसी एंड एचआरडी परवेज आलम, लिपिक दिनेश कुमार, कोषरक्षक मंगरा तिग्गा, अनुसेवक राधा महली और आदेशपाल मंजू कुमारी अनुपस्थित पाये गये। 
उपायुक्त ने निर्देश दिया कि माह जुलाई 2017 का पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल के सभी पदाधिकारी, कर्मचारियों का बायोमैट्रिक उपस्थिति अधोहस्ताक्षरी के समक्ष उपस्थापित किया जायेगा। डीसी के आदेश के बाद ही माह जुलाई 2017 का वेतन भुगतान की कार्रवाई की जायेगी। तत्काल अनुपस्थित पदाधिकारियों, कर्मचारियों से स्पष्टीकरण प्राप्त कर अपने मंतव्य के साथ दो दिनों के अंदर भेजना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि विगत 11 जुलाई को प्रधान सचिव पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के समीक्षा बैठक में दिये गये निर्देशों का शत प्रतिशत पालन करना अनिवार्य है अन्यथा कार्रवाई की जायेगी।
गौरतलब है कि लोहरदगा जिला में अधिकांश अधिकारी कर्मचारी ट्रेन से रांची लोहरदगा आना जाना करते हैं। रांची से लोहरदगा 11.30 बजे अधिकारी कर्मचारी पहुंचते हैं और 1.30 बजे के बाद ट्रेन से वापस रांची चले जाते हैं। ऐसे में सरकारी कार्यालयों में कोई काम नहीं हो पाता है। डीसी ने कई बार लोगों को आदेश दिया, लेकिन उपायुक्त के आदेश को लोगों ने हल्के में लिया और अब जनता की परेशानियों को देखते हुए डीसी ने कार्यालयों के औचक निरीक्षण का सिलसिला शुरू किया है। डीसी के इस कार्रवाई के बाद जिले के भगोड़े अधिकारियों व कर्मचारियों में हड़कंप मचा है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS