ब्रेकिंग न्यूज़
आईएएस से छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले अजीत जोगी नहीं रहें, प्रधानमंत्री मोदी व सीएम नीतीश ने जताई गहरी शोक संवेदनामोतिहारी के चकिया में दो प्रवासी कामगारों की एक्सीडेंट में हुई मौत, बाइक पर सवार हो दिल्ली से जा रहे थे दरभंगा, रास्ते में हुई दुर्घटनामोतिहारी की पीपराकोठी में एसएसबी ने करीब 2 करोड़ मूल्य की मॉरफीन पकड़ी, वाहन जब्त, ड्राइवर भी गरफ्तारदेश के अलग-अलग हिस्सो से रक्सौल आए 470 लोगों को किया गया होम क्वारेंटाइनरक्सौल शहर के नागारोड में पुलिस ने छापेमारी कर 100 बोतल नेपाली शराब व 2 किलो 700 ग्राम गांजा किया जप्तसमस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी में मिली लापता किशोर की लाशश्रमिक स्पेशल ट्रेन में प्रसव पीड़ा पर पहुंची मेडिकल टीम, बच्ची ने ली जन्मपुणे से आए प्रवासी की क्वारंटाइन सेंटर में मौत
झारखंड
शिक्षा में सुधार के लिए अनुसंधान पर हो जोर
By Deshwani | Publish Date: 15/6/2017 5:24:36 PM
शिक्षा में सुधार के लिए अनुसंधान पर हो जोर

लोहरदगा, (हि.स.)। शीला अग्रवाल सरस्वती विद्या मंदिर में गुरुवार को गुमला विभाग स्तरीय शिशु विद्या मंदिरों के आचार्यों की संगोष्ठी हुई। मौके पर प्रांतीय प्रमुख अमरकांत झा ने कहा कि शोध को अनुसंधान भी कहा जाता है। अनुसंधान का अर्थ अभीष्ट बिंदु को खोजना है। शिक्षा में सुधार के लिए अनुसंधान आवश्यक है। मौके पर शशि शेखर दुबे ने कहा कि अनुसंधान वैदिक काल से चला आ रहा है। उन्होंने बताया कि अनुसंधान तीन प्रकार के प्रयोगात्मक, व्याख्यात्मक व वर्णात्मक होते हैं।

विद्यालय में बच्चों को केंद्र बिंदु मानकर क्रियात्मक शोध किया जाए तो उनके पठन-पाठन तथा अनुशासन में सकारात्मक सुधार लाया जा सकता है। डॉक्टर रमेश मणि पाठक ने भी विद्यालयों में शोध के महत्व पर प्रकाश डाला। प्रबंध कार्यकारिणी समिति के अध्यक्ष शशिधर अग्रवाल एवं सचिव अजय प्रसाद ने विद्या भारती के इस पहल की सराहना की। मौके पर विद्यालय के प्रधानाचार्य कुमार विमलेश, विद्यालय प्रबंध कार्यकारणी समिति के अध्यक्ष शशिधर लाल अग्रवाल, अजय प्रसाद, रमेश मणि पाठक, अमरकांत, आदित्य प्रकाश जालान, प्रोफेसर शशि शेखर दुबे सहित विभाग के विभिन्न विद्यालयों के 25 आचार्य उपस्थित थे।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS