ब्रेकिंग न्यूज़
आईएएस से छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले अजीत जोगी नहीं रहें, प्रधानमंत्री मोदी व सीएम नीतीश ने जताई गहरी शोक संवेदनामोतिहारी के चकिया में दो प्रवासी कामगारों की एक्सीडेंट में हुई मौत, बाइक पर सवार हो दिल्ली से जा रहे थे दरभंगा, रास्ते में हुई दुर्घटनामोतिहारी की पीपराकोठी में एसएसबी ने करीब 2 करोड़ मूल्य की मॉरफीन पकड़ी, वाहन जब्त, ड्राइवर भी गरफ्तारदेश के अलग-अलग हिस्सो से रक्सौल आए 470 लोगों को किया गया होम क्वारेंटाइनरक्सौल शहर के नागारोड में पुलिस ने छापेमारी कर 100 बोतल नेपाली शराब व 2 किलो 700 ग्राम गांजा किया जप्तसमस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी में मिली लापता किशोर की लाशश्रमिक स्पेशल ट्रेन में प्रसव पीड़ा पर पहुंची मेडिकल टीम, बच्ची ने ली जन्मपुणे से आए प्रवासी की क्वारंटाइन सेंटर में मौत
झारखंड
झारखंड में शराबबंदी लागू करने की मांग
By Deshwani | Publish Date: 10/6/2017 6:11:19 PM
झारखंड में शराबबंदी लागू करने की मांग

लोहरदगा, (हि.स.)। 85 प्रतिशत महिला विरोधी अ 70 प्रतिशत सड़क दुर्घटना के पीछे शराब का हाथ होता है लेकिन झारखंड सरकार सिर्फ राजस्व के नाम पर एक कुप्रथा को प्रोत्साहित कर रही है। उन्होंने कहा कि संविधान का नीति निदेशक सिद्धांत राज्य को निर्देश देता है कि वह शराबबंदी करे। लेकिन झारखंड सरकार जनभावनाओं की अवहेलना कर रही है। शनिवार को यह बातें नव भारत जागृति केंद्र के गिरिजा सतीश ने कहीं। वह बीएस कॉलेज के समीप ग्राम स्वराज्य संस्थान में आयोजित विचार गोष्ठी में बोल रहे थे। 

गौरतलब है कि गिरिजा सतीश के नेतृत्व में निकली शराब मुक्ति यात्रा झारखंड में शराबबंदी लागू करने की मांग को लेकर पूरे राज्य का दौरा कर रही है। उन्होंने कहा कि यह एक दुष्प्रचार है कि आदिवासी समुदाय शराबबंदी नहीं चाहता है क्योंकि इस यात्रा के दौरान आदिवासी महिला-पुरुषों ने शराब पर प्रतिबंध लगाने का भारी समर्थन किया है। उन्होंने सभी धर्मों में शराब को एक बुराई के रूप में देखे जाने का उदाहरण दिया और कहा कि शराबबंदी के मुद्दे पर संस्थाओं को भी एक होने की जरूरत है ताकि विकास और सामाजिक परिवर्तन कर काम हो सके। 

मौके पर ग्राम स्वराज्य संस्थान के सचिव चंद्रपति यादव ने सबों का संक्षिप्त परिचय दिया। उन्होंने कहा की झारखंड में नशे की समस्या बढ़ती जा रही है। गांव के गरीब वर्ग के लोग अपनी कमाई का बड़ा हिस्सा नशा में लुटाते हैं। वहीं युवा वर्ग के बीच में शराब का प्रचलन बढ़ा है जिससे शराब व्यापार में प्रति वर्ष भारी बढ़ोतरी हो रही है। शराब बिक्री से सरकार को एक रुपये का लाभ होता है तो बीमारी के इलाज और घटी उत्पादकता के रूप में दो रुपये का नुकसान भी होता है। अधिकांश मामलों में शराब की वजह से महिलाओं की प्रताड़ना, परिवार टूटने और बच्चों की असुरक्षा की बात सामने आती है। कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन शेख यासीन ने किया।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS