ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी अभियंत्रण महाविद्यालय में प्राध्यपकों पर हमला व तोड़फोड़, कॉलेज छात्रों के विरूद्ध एफआईआर, कॉलेज व होस्टल में अगले आदेश तक छुट्टीमोतिहारी के छतौनी में स्पोर्स्टस क्लब मैदान से आर्म्स के साथ 4 गिरफ्तार, एसपी ने कहा-अपराध के लिए जुट थे हथियारों के सौदागरकेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने नागालैंड में मोन मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखीराष्ट्रपति ने गुरु रविदास जयंती की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामनाएं दींनई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में खेलों को एक गौरवपूर्ण स्थान दिया गया है : प्रधानमंत्रीसीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत की
झारखंड
पुल निर्माण कार्य 17 वर्षो से पड़ा है अधूरा
By Deshwani | Publish Date: 8/6/2017 10:52:09 AM
पुल निर्माण कार्य 17 वर्षो से पड़ा है अधूरा

लोहरदगा, (हि.स.)। अलौदी पंचायत के चटकपुर से साके हेसवे जाने वाली पथ पर वर्ष 2000 में बना पड़ा अर्धनिर्मित पुल 17 वर्षों से अधूरा है। इस पुल का निर्माण कराया जा रहा था लेकिन उग्रवादियों द्वारा इसमें व्यवधान उत्पन्न कर देने के बाद कार्य बंद हो गया। 
17 वर्षो बाद भी इस पथ की सुधि लेने वाला कोई नहीं है। सुदूरवर्ती इलाका होने के कारण किसी जनप्रतिनिधि का भी आवागमन इस क्षेत्र में नहीं होता है। जब चुनाव होता है तो ग्रामीणों द्वारा पुल निर्माण का मुद्दा उठाया जाता है लेकिन किसी पंचायत प्रतिनिधि, विधायक, सांसद के अलावा प्रशासनिक अधिकारी तक पुल निर्माण में अपनी रुचि अभी तक नहीं दिखाई है।
इस संबंध में ग्रामीणों का कहना है कि वे लोग सुदूर और नक्सल प्रभावित क्षेत्र से आते हैं, जिसके कारण वे अब तक विकास कार्य से उपेक्षित है। इस पुल का निर्माण नहीं होने से सुखे समय में तो नदी पार करके मुख्यालय और पंचायत भवन आ जाते हैं लेकिन बरसात के मौसम में छह किमी घूमकर पंचायत भवन जाना पड़ता है। विशेषकर रानीगंज, मन्हे, तेतरटोली, जामुन टोली के ग्रामीणों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों का कहना है कि सैकड़ों बार अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से फरियाद की गई लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। चुनाव के बाद बड़े-बड़े दावे एवं वादे किये जाते हैं लेकिन चुनाव बीतने के बाद नेता सबकुछ भूल जाते है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS