ब्रेकिंग न्यूज़
आईएएस से छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री बनने वाले अजीत जोगी नहीं रहें, प्रधानमंत्री मोदी व सीएम नीतीश ने जताई गहरी शोक संवेदनामोतिहारी के चकिया में दो प्रवासी कामगारों की एक्सीडेंट में हुई मौत, बाइक पर सवार हो दिल्ली से जा रहे थे दरभंगा, रास्ते में हुई दुर्घटनामोतिहारी की पीपराकोठी में एसएसबी ने करीब 2 करोड़ मूल्य की मॉरफीन पकड़ी, वाहन जब्त, ड्राइवर भी गरफ्तारदेश के अलग-अलग हिस्सो से रक्सौल आए 470 लोगों को किया गया होम क्वारेंटाइनरक्सौल शहर के नागारोड में पुलिस ने छापेमारी कर 100 बोतल नेपाली शराब व 2 किलो 700 ग्राम गांजा किया जप्तसमस्तीपुर में बूढ़ी गंडक नदी में मिली लापता किशोर की लाशश्रमिक स्पेशल ट्रेन में प्रसव पीड़ा पर पहुंची मेडिकल टीम, बच्ची ने ली जन्मपुणे से आए प्रवासी की क्वारंटाइन सेंटर में मौत
झारखंड
पुल निर्माण कार्य 17 वर्षो से पड़ा है अधूरा
By Deshwani | Publish Date: 8/6/2017 10:52:09 AM
पुल निर्माण कार्य 17 वर्षो से पड़ा है अधूरा

लोहरदगा, (हि.स.)। अलौदी पंचायत के चटकपुर से साके हेसवे जाने वाली पथ पर वर्ष 2000 में बना पड़ा अर्धनिर्मित पुल 17 वर्षों से अधूरा है। इस पुल का निर्माण कराया जा रहा था लेकिन उग्रवादियों द्वारा इसमें व्यवधान उत्पन्न कर देने के बाद कार्य बंद हो गया। 
17 वर्षो बाद भी इस पथ की सुधि लेने वाला कोई नहीं है। सुदूरवर्ती इलाका होने के कारण किसी जनप्रतिनिधि का भी आवागमन इस क्षेत्र में नहीं होता है। जब चुनाव होता है तो ग्रामीणों द्वारा पुल निर्माण का मुद्दा उठाया जाता है लेकिन किसी पंचायत प्रतिनिधि, विधायक, सांसद के अलावा प्रशासनिक अधिकारी तक पुल निर्माण में अपनी रुचि अभी तक नहीं दिखाई है।
इस संबंध में ग्रामीणों का कहना है कि वे लोग सुदूर और नक्सल प्रभावित क्षेत्र से आते हैं, जिसके कारण वे अब तक विकास कार्य से उपेक्षित है। इस पुल का निर्माण नहीं होने से सुखे समय में तो नदी पार करके मुख्यालय और पंचायत भवन आ जाते हैं लेकिन बरसात के मौसम में छह किमी घूमकर पंचायत भवन जाना पड़ता है। विशेषकर रानीगंज, मन्हे, तेतरटोली, जामुन टोली के ग्रामीणों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों का कहना है कि सैकड़ों बार अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों से फरियाद की गई लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ। चुनाव के बाद बड़े-बड़े दावे एवं वादे किये जाते हैं लेकिन चुनाव बीतने के बाद नेता सबकुछ भूल जाते है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS