ब्रेकिंग न्यूज़
कोटवा व रामगढ़वा थानाध्यक्ष हुए लाइन हाजिर, आरोपों की हो रही जांचकोटवा व रामगढ़वा थानाध्यक्ष हुए लाइन हाजिर, आरोपों की हो रही जांच"लॉक डाउन" में क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन, थानाध्यक्ष अनभिज्ञमोतिहारी पुलिस ने 50 हजार के इनामी राजतिलक के साथ पूर्व मुखिया व पुत्र सहित पांच को किया गिरफ्तारकोरोना प्रकोप: पूर्वी चंपारण के डीएम ने रक्सौल के शहरी क्षेत्रों में बाइक और चारपहिया वाहनों के परिचालन पर 16 अगस्त तक लगाई पूर्ण पाबंदीबदमाशों ने रंगदारी नहीं देने पर घर में की हवाई फायरिंग, बाइक सहित चार कारतूस जब्तमोतिहारी के रघुनाथपुर पुलिस ने तीन फराय अभियुक्तों के घर पर इश्तेहार सटवायामोतिहारी में 8 संदिग्ध युवक गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- झपटमार गिरोह के हैं सदस्य
बिहार
पानी के लिए तरस रही किशनगंज की जनता
By Deshwani | Publish Date: 19/5/2017 1:56:08 PM
पानी के लिए तरस रही किशनगंज की जनता

 किशनगंज। जल की शुद्धता की बात कौन करे, यहां तो खरीदकर पानी पीना आम लोगों के लिए मुश्किल है। किशनगंंज कुछ फीट पर ही जल का भंडार है। इसके बाद भी लोगों को शुद्ध पेयजल नसीब नहीं है। इसी का नतीजा है कि पानी के नाम पर प्रखंड में इन दिनों पानी बिक्री के कारोबार में तेजी आयी है। 

बोतल बंद पानी 20 रुपये और लोकल कंपनी के बोतल बंद पानी 15 रुपये लीटर बेचा जा रहा है। वहीं जार में मिल रही पानी का मूल्य से 30 रुपये प्रति जार बेचा जा रहा है। आयरन युक्त जल सेवन को बाध्य लोग टेढ़ागाछ वासियों को शुद्ध जल मुहैया कराने के कई सरकारी प्रयास किए गए। मुख्यालय में लाख की लागत से बनाई गई जलमीनार अब भी नाकामयाब है। खनियाबाद महादलित टोला में लाख से लगाई गई जल संयंत्र योजना बेकार पड़ी है। 
वहीं फाराबाड़ी, धवेली, झाला, शीशागाछी, भोरहा सहित अन्य स्थानों पर लगाए गए जल संयंत्र खुद प्यासे है। सरकार के खजाने से करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद टेढ़ागाछ की जनता आयरन युक्त पानी पीने को विवश है। बेकार पड़े जल संयंत्र को देखने वाला कोई नहीं है। फीट पर ही जल का भंडार है, लाख से लगाई गई जल संयंत्र योजना बेकार पड़ी है। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS