ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
किशनगंज
तिरंगे के रंगों के अपमान में उठे सवाल
By Deshwani | Publish Date: 4/1/2018 8:58:37 PM
तिरंगे के रंगों के अपमान में उठे सवाल

किशनगंज, (हि.स.)। जिले में समाहरणालय सहित कई स्थलों पर गणतंत्र दिवस व पंद्रह अगस्त के दिन राष्ट्रीय ध्वज के आधार को भी तीन रंगों में रंगा जाता है। उसी ध्वज के आधार पर अक्सर ऐसा देखा जाता रहा है कि तीन रंगों में रंगे गए आधार पर खड़े होकर राष्ट्रीय ध्वज को फहराया जाना क्या उचित है? यह समझ से परे है।

इस सवाल का जवाब किशनगंज के हरिनगर निवासी पूर्व आर्मी सूबेदार एमके सिंह ने प्रशासन और सरकार से जानने की इच्छा जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मेरा व्यक्तिगत मानना है कि तिरंगे के तीन रंगों का सम्मान होना चाहिए। ध्वज के आधार स्थल या ऐसे किसी स्थलों पर केशरिया, हरा और सफेद रंग का प्रयोग मुझे उचित नहीं लगता है। 
 
पूर्व आर्मी सूबेदार ने कहा कि जिन स्थलों को पैरों तले रौंदा जाता हो, मैं उसे तिरंगा का अपमान मानता हूं। तीन रंगों से रंगे स्थल पर भी सम्मान है। सेल्यूट करना हर भारतीय का फर्ज बनता है। उन्होंने कहा कि इस बाबत मैं सही हूं या गलत इसे देश के विद्वान और जानकारों से जानना चाहता हूं। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS