ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार कैबिनेट का फैसला : लड़कियों को जन्म से लेकर स्नातक तक मिलेगा समुचित लाभ व सुरक्षाशत्रुघ्‍न सिन्‍हा का सवाल, 'सर, नोटबंदी के 18 माह बाद भी एटीएम में पैसा नहीं है, यह क्‍या हो रहा है'पंजाब ने हैदराबाद के खिलाफ टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लियासुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस ने बुलाई विपक्ष की बैठकराज्यों के नाम मेनका का खत, रेप जैसी घटनाओं को रोकने के लिए दिए सुझावसीतामढ़ी रीगा चीनी मिल के मालिकों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंटप्रिंटिंग प्रेस में 24 घंटे चल रही नोटों की छपाई, कैश की समस्या होगी खत्मयूएस पहुंची कठुआ-उन्नाव रेप कांड मामला: भारतीय-अमरीकियों ने किया प्रदर्शन
खुंटी
बालू माफिया पर रोक लगाने में प्रशासन विफल
By Deshwani | Publish Date: 14/1/2018 5:59:28 PM
बालू माफिया पर रोक लगाने में प्रशासन विफल

खूंटी (हि.स.)।  तोरपा थाना क्षेत्र में कारो नदी से बालू के अवैध उत्खनन और परिवहन पर प्रशासनिक अमला रोकथाम लगाने में विफल साबित हो रहा है। दिन हो या रात हर समय बालू उत्खनन करते ट्रैक्टर और बड़े-बड़े ट्रकों पर बालू का लदान करती जेसीबी मशीनों को देखा जा सकता है। बालू की खुली तस्करी को लेकर स्थानीय पुलिस प्रशासन दूसरे विभाग का मामला कह कर अपना पाला झाड़ लेता है। जिले के सहायक खनन पदाधिकारी नंददेव बैठा यह तो मानते हैं कि बालू की बड़े पैमाने पर तस्करी हो रही है लेकिन विभाग के पास कर्मचारियों-अधिकारियों की कमी बता कर वे भी अपने कर्तव्य की इतिश्री कर लेते हैं। 

उल्लेखनीय है कि जिले के तोरपा थाना क्षेत्र के गिड़ुम तथा अन्य बालू घाटों से हर दिन सैकड़ों ट्रक बालू की तस्करी की जा रही है। बालू लदे ट्रक जिला मुख्यालय और तोरपा से कर्रा होकर रांची व अन्य बड़े शहरों में भेजे जाते हैं। ओवरलोड बालू के ट्रकों के दिन रात आवागमन के कारण कई सड़कें बनने के कुछ दिन बाद ही टूटने लगी हैं। अवैध बालू लदे ट्रकों को जल्दी गंतव्य तक पहुंचाने के चक्कर में ट्रकों की गति इतनी तेज होती है कि कई बार दुर्घटना भी हो जाती है। कुछ दिन पहले ही अवैध बालू लदे ट्रक ने तोरपा रेफरल अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डाॅ एन मांझी के वाहन में टक्कर मार दी थी। इससे डाॅक्टर दंपति और वाहन चालक गंभीर रूप से घायल हो गये थे। इसके पहले भी तोरपा हिल चौक के धनेश्वर होटल के पास भी बालू लदे ट्रक ने एक बाइक चालक को अपनी चपेट में ले लिया था। इसके बावजूद बालू तस्करों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने से प्रशासन की कार्यशैली पर अंगुली उठना स्वाभाविक है।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS