ब्रेकिंग न्यूज़
दुल्हन ने शादी मंडप में शादी करने से किया इनकार, दूल्हे की दिमागी हालत खराबबिहार सरकार जल्द करें गन्ना किसानों के बकाया का भुगतान : हाइकोर्टनाबालिग से बलात्कार के मामले आसाराम को उम्रकैद, बाकी दोषियों को 20-20 साल की सजाकुत्तों-बंदरों से परेशान हुआ एम्स के डॉक्टर और मरीज, मेनका गांधी को लिखा पत्रमोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ईडी, संपत्ति कुर्क करने के लिए नए अध्यादेश की तैयारीकर्नाटक चुनाव: जदयू ने जारी की दूसरी लिस्ट, 12 उम्मीदवारों के नामों की घोषणाभारत और चीन के बीच मतभेद विवादों में नहीं बदलना चाहिए : रक्षामंत्रीनोएडा में अंतरराष्ट्रीय हवाइअड्डे को सैद्धांतिक मंजूरी, 2022 तक विमान भरेंगे उड़ान
खुंटी
बेरोजगारी के कारण बढ़ रहा नक्लवाद
By Deshwani | Publish Date: 20/8/2017 11:07:10 AM
बेरोजगारी के कारण बढ़ रहा नक्लवाद

खूंटी, (हि.स.)। झारखंड राज्य गठन के 17 वर्ष और जिला गठन के दस साल गुजरने को हैं, लेकिन आज तक खूंटी जिले में कुछ नहीं बदला। न उद्योग लगे और न ही जिले का सर्वांगीण विकास हुआ। कुदरत ने यहां मुक्त हस्त से जल, जंगल और जमीन के साथ ही अनुकूल वातावरण प्रदान किया है पर जिले में भूमि अधिग्रहण की विकट समस्या और उग्रवाद-नक्सलवाद के चलते कोई उद्योगपति खूंटी की ओर रुख नहीं करता। नतीजतन रोजगार की कमी के कारण यहां उग्रवाद और नक्सलवाद की समस्या निरंतर बढ़ती जा रही है।
बेरोजगारी के कारण नक्सलवाद की समस्या पुलिस के लिए भी चुनौती बनती जा रही है। युवाओं को रोजगार मिले, तो काफी हद तक इस समस्या से निजात पाया जा सकता है। इसके बावजूद शनिवार को हुई 72 परियोजनाओं के शिलान्यास में खूंटी का कहीं नाम नहीं है। सीमेंट, फूड पार्क, फूड प्रोसेसिंग, राइस मिल, डेयरी सहित कई परियोजनाएं हैं। इसके पूर्व फरवरी 2017 में हुए मोमेंटम झारखंड में 310 लाख करोड़ के 2110 एमओयू हुए थे, पर यहा भी खूंटी की चर्चा नहीं थी। वैसे इस सूची में खूंटी के अलावा गुमला और सिमडेगा जिले का भी नाम नहीं है।
बता दें कि ये तीनों जिले नक्सलवाद और उग्रवाद से सबसे अधिक प्रभावित हैं। कोई उद्योगपति यहां कल-कारखाना खोलने का जोखिम उठाना नहीं चाहता। नाम न छापने की शर्त पर एक उद्योगपति ने कहा कि पूंजी निवेश करने के बाद भी इन जिलों में न जान की सुरक्षा है और न व्यवसाय की। इसके अलावा यहां की हर छोटी-बड़ी परियोजना का विरोध भी आम है। भूमि अधिग्रहण की समस्या के कारण ही एक मेगा पावर प्रोजेक्ट कोयल कारो जल विद्युत परियोजना वर्षों तक अधर में लटकने के बाद बंद हो गयी। मित्तल, जिंदल, भूषण स्टील जैसी नामी-गिरामी कंपनियों ने उद्योग लगाने में रुचि दिखायी थी। मित्तल ग्रुप ने तो भूमि अधिग्रहण को लेकर प्रक्रिया भी शुरू कर दी थी पर प्रबल जन विरोध को देखते हुए उसने अपने कदम वापस खींच लिये।
चंद पैसों के लिए उग्रवाद की ओर आकर्षित हो रहा है युवा वर्ग
उद्योगों की कमी के कारण जिले में नक्सलवाद की समस्या गहराती जा रही है। चंद पैसों के लालच में बेरोजगार युवक उग्रवाद की ओर आकर्षित हो रहे हैं। जिले के एक अधिकारी ने कहा कि आज के युवाओं को महंगी बाइक, अच्छा मोबाइल और उनके नए-नए शौक कहां से पूरे होंगे? कमाई तो है नहीं और इसी का उग्रवादी या नक्सली लाभ उठाकर उन्हें अपने साथ दौलत देने का लालच देकर मिला लेते हैं। उन्होंने कहा कि जिले में उद्योग लग जाएं और स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार मिलने लगे तो यह समस्या स्वतः ही समाप्त हो जायेगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS