ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी: लायंस कपल क्लब का पदस्थापना समारोह सम्पन्ननिलंबन के खिलाफ 8 विपक्षी सांसद धरने पर बैठे, हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगितप्रधानमंत्री मोदी का बिहार को सौगात- पटना व भागलपुर में दो बड़े पुल, ग्रामीण क्षेत्रों में तेज इंटरनेट ...और भी बहुत कुछपड़ोसी देश मालदीव की मदद के लिए भारत ने बढ़ाया हाथ, 25 करोड़ डॉलर की आर्थिक सहायता दीकोरोना काल में 6 महीने तक बंद रहने के बाद खुला ताज महल, चीनी टूरिस्ट ने किया सबसे पहले दीदारकेरल के एर्नाकुलम की खदान में भयंकर विस्फोट, दो मजदूरों की मौतCOVID-19: भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 86,961 नए केस, कोरोनावायरस से 1,130 की मौतभिवंडी हादसे पर प्रधानमंत्री मोदी ने जताया दुख, ट्वीट कर कहा- मेरी संवेदना पीड़ित परिवारों के साथ
बिहार
बोलबम के जयघोष से गूंजा कटिहार का गोरखनाथ धाम
By Deshwani | Publish Date: 6/8/2017 12:26:59 PM
बोलबम के जयघोष से गूंजा कटिहार का गोरखनाथ धाम

कटिहार,  (हि.स.)। कटिहार के गोरखनाथ धाम में प्रत्येक वर्ष सावन पूर्णिमा के अवसर पर भोलेनाथ को जलाभिषेक करनेे के लिए लाखों लोग आते हैं । इस अवसर पर भारत के कई राज्यों के अलावा भारत के पड़ोसी देश नेपाल एवं भूटान से भी लाखों की संख्या में कावरियों की टोली बाबा भोलेनाथ को जलाभिषेक करने आते हैं। गोरखनाथ धाम मंदिर को मिनी बाबाधाम के नाम से भी जाना जाता है | इसके विषय में कहा जाता है कि बाबा गोरखनाथ देश भ्रमण के दौरान असम जाने के लिए यहाँ ठहरे थे। यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध और सैकड़ो वर्ष पुराना है। कहा जाता है कि सावन के अवसर पर जलाभिषेक करने से सभी मनोकामना पूर्ण होती है। यहाँ हर साल आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ती जा रही है। 

बता दें कि सूबे की सरकार ने गोरखनाथ धाम को पर्यटन स्थल बनाने की तैयारी शुरू कर दी है। मान्यता है कि जो श्रद्धालु यदि झारखण्ड के बैधनाथ धाम में जलाभिषेक व मंदिर की परिक्रमा नहीं कर पाते है, तो गोरखनाथ धाम शिव मन्दिर के दर्शन करने से भी पुण्य प्राप्त किया जा सकता है। 
 
गोरखधाम मन्दिर कमिटी के सचिव ने बताया कि शिवभक्तों का गोरखनाथ धाम के भोलेनाथ के प्रति अटूट आस्था है। सावन पूर्णिमा के अवसर पर ऐसा लगता है कि साक्षात भगवान शिव जमीन पर उतर आये हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि कटिहार के मनिहारी से गंगा जल लेकर कांवरिया लगभग 70 किमी पैदल उबड़-खाबड़ रास्तों से होते हुए भोले शिवशंकर को जलाभिषेक करने आते हैं। गोरखनाथ धाम का शिव मन्दिर देश के ग्यारह ज्योतिर्लिंगों से अलग है। सावन पूर्णिमा अवसर पर यहां बड़ा का आयोजन किया जाता है। 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS