ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
झारखंड के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी का कोरोना से निधन, मेदांता में ली अंतिम सांस
By Deshwani | Publish Date: 3/10/2020 5:45:22 PM
झारखंड के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी का कोरोना से निधन, मेदांता में ली अंतिम सांस

रांची। झारखंड के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी निधन हो गया है। मंत्री कोरोना संक्रमित थे। उनका रांची के मेदांता अस्‍पताल में इलाज चल रहा था। बताया गया है कि शुक्रवार की शाम इनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इसके बाद उन्‍हें उपचार के लिए मेदांता में भर्ती कराया गया था। वह पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे. झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के केंद्रीय प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने बताया कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

 
बता दें कि मधुपुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक हाजी हुसैन 2019 के विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बाद झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन की सरकार में अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण मंत्री बने। वे चौथी बार मंत्री बने। उसके बाद कहा जा रहा था कि छोटा विभाग मिलने से वे प्रभार ग्रहण नहीं कर रहे हैं और कार्यालय भी नहीं जा रहे हैं।
 
हाजी हुसैन अंसारी पृथक झारखंड आंदोलन के दौरान सक्रिय रहे और जेल भी गए। झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन के विश्वासपात्र नेताओं में अंसारी की गिनती होती है। उनका जन्म दो मार्च 1948 को मधुपुर के पिपरा गांव में हुआ था। पिता का नाम हाजी पैगाम अंसारी और माता का नाम सलमा बीबी है। वर्ष 2000, 2009 एवं 2019 के विधानसभा चुनाव में भी मधुपुर से उन्‍हाेंने जीत हासिल की थी। 2014 में भी हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली सरकार में वे मंत्री थे।
 
कोरोना वायरस के शुरुआती दौर में मंत्री हाजी हुसैन तब चर्चा में आए थे, जब नई दिल्ली के निजामुद्​दीन में तब्लीगी जमात (धार्मिक सम्मेलन) में शामिल लोगों की सूची में उनके बेटे का नाम शामिल था। इसके बाद इसकी चर्चा पूरे झारखंड में होने लगी थी। उस समय नई दिल्ली ने झारखंड सरकार को जो सूची सौंपी थी, उसमें झारखंड सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हाजी हुसैन अंसारी के बेटे मोहम्मद तनवीर का भी नाम शामिल था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS