ब्रेकिंग न्यूज़
अत्याधुनिक हथियार बरामदगी मामले में कोटवा निवासी कुख्यात कुणाल को आजीवन कारावास, 42 हजार रुपये का अर्थदंड भी मिलाइस बार का चुनाव मेरे लिए चुनाव है चुनौती नहीं: राधा मोहन सिंहMotihati: सांसद राधामोहन सिंह ने नामांकन दाखिल किया, कहा-मैं तो मोदी के मंदिर का पुजारीमोतिहारी के केसरिया से दो गिरफ्तार, लोकलमेड कट्टा व कारतूस जब्तभारतीय तट रक्षक जहाज समुद्र पहरेदार ब्रुनेई के मुआरा बंदरगाह पर पहुंचामोतिहारी निवासी तीन लाख के इनामी राहुल को दिल्ली स्पेशल ब्रांच की पुलिस ने मुठभेड़ करके दबोचापूर्व केन्द्रीय कृषि कल्याणमंत्री राधामोहन सिंह का बीजेपी से पूर्वी चम्पारण से टिकट कंफर्मपूर्व केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री सांसद राधामोहन सिंह विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे
झारखंड
जनजातियों के विकास को लेकर संवेदनशील हैं प्रधानमंत्री मोदी: अर्जुन मुंडा
By Deshwani | Publish Date: 12/9/2019 5:18:38 PM
जनजातियों के विकास को लेकर संवेदनशील हैं प्रधानमंत्री  मोदी: अर्जुन मुंडा

रांची। केंद्रीय जनजातीय विभाग के मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनजातियों के विकास को लेकर बेहद संवेदनशील हैं। उन्होंने कहा कि इस सरकार में साहसिक और ऐतिहासिक फैसले लेने की क्षमता है। यही वजह है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए को सरकार ने खत्म किया। अब कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा देश एक है।
 
अर्जुन मुंडा ने कहा कि गांव-गांव और जन-जन तक पहुंचने वाली योजनाओं की प्रधानमंत्री मोदी शुरुआत झारखंड से ही की है। वहीं एक बार फिर महत्वाकांक्षी राष्ट्रीय योजना की शुरुआत आज यहां से हो रही है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में 2014 और 2019 के बीच ‘आयुष्मान भारत’ समेत कई योजनाएं शुरू हुईं। इससे देश के लोग लाभान्वित हुए। भारी संख्या में देश के लोगों को आयुष्मान भारत योजना से स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं। 
 
मुंडा ने कहा कि जनजातीय मंत्रालय के अंतर्गत एक महत्वाकांक्षी परियोजना एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय की शुरुआत हो रही है। यह ऐसे विद्यालय होंगे, जहां बहुमुखी प्रतिभा उभरेगी। शिक्षा के साथ-साथ खेलकूद और कला के क्षेत्र में भी अपना परचम लहरायेंगे। उन्होंने कहा कि ये विद्यालय नवोदय विद्यालय के जैसे होंगे। एक-एक स्कूल में 480 विद्यार्थियों का नामांकन होगा। स्कूल में कम से कम चार खेल का लगातार प्रशिक्षण दिया जायेगा। ये स्कूल देश के 462 जगहों पर खुलेंगे। इसमें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जायेगी। तीन साल में परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS