ब्रेकिंग न्यूज़
कानपुर में मछलियों से भरा ट्रक पलटा, लोगों ने दिनदहाड़े लूटीं मछलियां, पुलिस ने लाठी पटककर खदेड़ाकार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर दंगल कुस्ती का आयोजन, पहलवानों ने दिखाया दमखमसरिसवा नदी बचाओ आंदोलन की बैठक डॉ अनिल कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में हुई, नदी के मिटते वजूद पर जताई चिंताकार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर हुए कई हादसे, स्नान करने के दौरान अलग-अलग जिलों में डूबने से 20 लोगों की मौतबैडमिंटन खिलाड़ी सौरभ वर्मा ने हांगकांग ओपन के मुख्य ड्रॉ के लिए किया क्वालीफाईखिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा दिखाने का एक शानदार मंच है महिला चैम्पियनशिप: एम्ब्रोसगुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश ने दी देशवासियों को बधाईछठी बार ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए ब्राजील रवाना हुए प्रधानमंत्री मोदी
झारखंड
झारखंड मॉब लिंचिंग मामले में मुख्य आरोपी सहित 11 गिरफ्तार
By Deshwani | Publish Date: 25/6/2019 11:33:45 AM
झारखंड मॉब लिंचिंग मामले में मुख्य आरोपी सहित 11 गिरफ्तार

सरायकेला/रांची। झारखंड में सरायकेला थाना अंतर्गत सीनी ओपी के धातकीडीह गांव में शम्स तबरेज नामक युवक की मॉब लिचिंग में हुई मौत के मामले में मुख्य आरोपित सहित 11 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों में मुख्य आरोपित प्रकाश मंडल उर्फ पप्पु मंडल, भीमसेन मंडल, प्रेमचंग महली, कमल महतो, सोनामो प्रधान, सत्यनारायण नायक, सोनाराम महली, चामू नायक, मैदान नायक, महेश महली और सुमंत महतो शामिल हैं। 

 
एसपी एस कार्तिक ने मंगलवार को बताया कि अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। उन्होंने बताया कि मृतक शम्स तबरेज अपने तीन साथियों के साथ धातकीडीह गांव में चोरी कर रहा था। चोरी करते युवक को ग्रामीणों ने रंगे हाथ पकड़ लिया और उसके बाद उसकी जमकर पिटाई की। हालांकि यह सूचना एक दिन बाद अहले सुबह पुलिस को लगी थी। इसके बाद मौके पर पुलिस पहुंची और घायल युवक को इलाज के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। सदर अस्पताल में डॉक्टरों ने युवक का मेडिकल जांच किया गया। जांच के बाद उसे जेल भेज दिया गया था। लेकिन अचानक तबीयत बिगड़ने पर फिर उसे सदर अस्पताल लाया गया, जहां इलाज के क्रम में उसकी मौत हो गयी। 
 
उल्लेखनीय है कि घटना को लेकर एसपी ने खरसावा थाना प्रभारी चन्द्र मोहन उरांव और सीनी थाना प्रभारी बिपिन बिहारी सिंह को सोमवार को सस्पेंड कर दिया था। मामले का जल्द खुलासा करने एसआईटी का गठन किया था। जबकि मामले में वायरल हुए वीडियो की जांच के लिए डीजीपी कमल नयन चौबे ने एफएसएल से जांच कराने का निर्देश दिया था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS