झारखंड
युवाओं को रोजगार से जोड़ना सरकार की प्राथमिकता: मुख्यमंत्री रघुवर दास
By Deshwani | Publish Date: 2/2/2019 3:38:07 PM
युवाओं को रोजगार से जोड़ना सरकार की प्राथमिकता: मुख्यमंत्री रघुवर दास

रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखंड की युवा शक्ति प्रतिभा की धनी है। राज्य में युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित कर रोजगार से जोड़ने का प्रतिबद्ध प्रयास सरकार ने किया है। पिछले 4 वर्षों में यहां के युवा वर्ग को निजी क्षेत्र में बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध कराया गया है।

 
झारखंड की श्रम शक्ति अन्य राज्यों की श्रम शक्ति से बेहतर और अनुशासित है। झारखंड के लोग सरल सीधे और अनुशासित हैं। उक्त बातें मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री आवास में आयोजित प्रेझा फाउंडेशन के इंटरनेशनल कल्याण गुरुकुल में प्रशिक्षित 69 युवाओं को दुबई में नियोजन के लिए नियुक्ति पत्र का वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहीं।
 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के हाथों नवनियुक्त युवकों को नियुक्ति पत्र दिलाया गया। जिन युवाओं को नियुक्ति पत्र दिया गया है, उनका प्रशिक्षण कल्याण गुरुकुल खूंटी में इलेक्ट्रिकल, प्लंबर, बारबेंडिंग ट्रेड में हुआ है। इसके बाद युवाओं का नियोजन दुबई के  डुलास्को कंपनी में हुआ है।
 
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दुबई की निजी कंपनी डुलास्को में नौकरी पाने वाले युवाओं से कहा कि आप अपनी कार्य क्षमता की बदौलत ऐसी पहचान बनाएं की पूरी दुनिया यह कहे कि झारखंड की युवा शक्ति वाकई बेहतर और अनुशासित है। झारखंड की पहचान झारखंड के युवा ही हैं। नये राज्य के निर्माण में युवाधन का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न जिलों से गुरुकुल में प्रशिक्षण लेने आये युवाओं का दुबई में नियोजन हो रहा है।
 
उन्होंने कहा कि झारखंड अमीर राज्य है, परंतु राज्य की कोख में गरीबी पल रही है। राज्य से गरीबी का समूल नाश करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। पिछले 4 वर्षों में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम मिशन मोड में चलाया गया है। राज्य सरकार ने केंद्र सरकार के साथ समन्वय बनाकर पूरे राज्य में कौशल विकानियुक्ति पत्र मिलने वाले सभी स प्रशिक्षण कार्यक्रम को प्रतिबद्धता के साथ लागू किया।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के सभी जिलों में गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण के लिए गुरुकुल जैसी अंतरराष्ट्रीय संस्था स्थापित की गयी है। ग्रामीण व सुदूर क्षेत्रों के युवा को प्रशिक्षित कर रोजगार से जोड़ा जा रहा है।
 
दास ने कहा कि वैश्विक युग में स्किल्ड मैनपावर की मांग बढ़ी है. इस मांग को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम को पूरे झारखंड में मिशन मोड में चलाया है. सरकार का यह लक्ष्य है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले वैसे युवा वर्ग जो कम पढ़े लिखे हैं, उन्हें भी हुनरमंद और दक्ष बनाना है।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 4 वर्षों में राज्य में अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा प्रतिबद्धता के साथ कार्य किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने विभाग की सचिव हिमानी पांडे को बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कल्याण गुरुकुल के प्रतिनिधि एवं दुबई से पहुंचे निजी कंपनी  डुलास्को के प्रतिनिधियों को भी बधाई दी। 
 
इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, अनुसूचित जनजाति अनुसूचित जाति, अल्पसंख्यक एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग की सचिव हिमानी पांडे, खूंटी के उपायुक्त सूरज कुमार, डुलास्को के चीफ कॉमर्शियल ऑफिसर रॉबर्ट क्रीक, रीजनल हेड स्टीवन मॉरिस, कंपनी के अन्य प्रतिनिधि, कल्याण गुरुकुल से संबंधित अधिकारी, कल्याण गुरुकुल खूंटी के 69 नवनियुक्त युवा सहित बड़ी संख्या में अन्य उपस्थित थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS