ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार में मोतिहारी की आदापुर पुलिस ने पाच करोड़ की चरस के साथ पांच नेपाली नागरिक को पकड़ाजिला प्रशासन ने अंतरजातीय विवाह करने वाले 10 दंपत्तियों को बतौर प्रोत्साहन 7.75 लाख की राशि प्रदान कियादैवीय आपदा, बेघर और कच्चे घरों में रहने वाले गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत निःशुल्क आवास उपलब्धदिनेशलाल यादव निरहुआ ने की बिहार में 500 थियेटर के साथ एजुकेशन को जोड़ने की पहलविभिन्न समस्याओं के समाधान की मांग को लेकर स्वच्छ रक्सौल संस्था द्वारा धरना आज तीसरा दिन भी जारी रहाशराब कारोबारी और पुलिस की कथित चूहा बिल्ली के खेल में हुई दुर्घटना में एक तेज रफ्तार होण्डा कार ने तीन लोगों को रौंदा, एक की मौतदूरदर्शन की मशहूर एंकर नीलम शर्मा का निधन, कैंसर से थीं पीड़ितकुशीनगर में एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या, क्षेत्र में फैली सनसनी
झारखंड
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मुख्यधारा से भटके लोगों से विकास में योगदान करने का किया आह्वान
By Deshwani | Publish Date: 26/1/2019 4:47:19 PM
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मुख्यधारा से भटके लोगों से विकास में योगदान करने का किया आह्वान

दुमका। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर शनिवार को दुमका पुलिस लाईन में आयोजित भव्य समाराह में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और संयुक्त परेड की सलामी ली। इस अवसर पर जिला प्रशासन की ओर से विभिन्न विभागों द्वारा आकर्षक झांकियां भी प्रस्तुत की गयी।

 
मुख्यमंत्री ने नव चयनित शिक्षकों के बीच नियुक्ति पत्र और और आकर्षक झांकिंया पेश करनेवाली टीमों को पुरस्कृत किया। मुख्यमंत्री दास ने पुलिस लाईन में आयोजित मुख्य समारोह में उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया और अमर शहीद राष्ट्रनिर्माताओं के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित की। 
 
उन्होंने कहा कि आतंकवाद और उग्रवाद देश और राज्य के विकास मार्ग में सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने भटके युवाओं से हिंसा का रास्ता त्याग कर राज्य के विकास में योगदान करने के आह्वान के साथ ही कहा कि राज्य सरकार ने इन चुनौतियों का डटकर सामना किया है। परिणामस्वरूप राज्य में उग्रवादी हिंसा की घटनाओं में काफी कमी आयी है। सरकार के सफल प्रयास के कारण ही राज्य में उग्रवादी प्रभावित जिले की संख्या 21 से घटकर 19 रह गयी है तथा अति उग्रवादी जिले की संख्या 16 से घटकर 13 हो गयी है। उन्होंने कहा कि रामगढ़ और कोडरमा जिले को उग्रवाद मुक्त जिला होने की अनुशंसा केन्द्र सरकार से की गयी है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने सुरक्षा उपायों को विकास कार्यों से जोड़कर सकारात्मक राजनीति की शुरूआत की है। सुरक्षा बल नक्सलियों के खिलाफ अभियान चलाने के साथ विकास कार्य में भी योगदान कर रहे है। 
 
मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान अन्नदाता किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए राज्य में कृषि आर्शीवाद योजना शुरू करने और किसानों का उन्नत तकनीक का प्रशिक्षण मुहैया कराने की चर्चा करते हुए कहा कि झारखंड इकलौता ऐसा राज्य है जहां किसानों के फसल बीमा के प्रीमियम राशि का भुगतान राज्य सरकार करती है। 
 
उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में राज्य के किसानों का मुफ्त फसल बीमा कराया जायेगा। उन्होंने दावा किया कि राज्य सरकार के चार साल के प्रयास से राज्य के कृषि विकास दर में 19.07 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि राज्य में 102 पुरानी वृहद औेर मध्यम सिंचाई योजनाओं की सिंचाई क्षमता में रख-रखाव व मरम्मति के अभाव में लगभग 40 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। उनकी सरकार ने इन सभी पुरानी सिंचाई योजनाओं का शत-प्रतिशत जीर्णोद्धार का निर्णय लिया है। इससे सृजित क्षमता के अनुसार सिंचाई का लाभ लिया जा सकेगा। इसके तहत राज्य में अभी तक 50 सिंचाई योजनाओं के जीर्णोद्धार का कार्य प्रारम्भ कर दिया गया है। इसके अलावे राज्य में किसानों की समृद्धि के लिए सुजलाम सुफलाम योजना शुरु किया जा रहा है।
 
दास ने अपने संबोधन में आम जनों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना,ऐम्बुलेंस सेवा, चिकित्सा महाविद्यालयों की स्थापना कर एमबीबीएस के सीटों में वृद्धि किये जाने के साथ गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा व्यवस्था सुनिश्चित किये जाने की दिशा में किये गये प्रयास पर विस्तार से चर्चा की । उन्होंने महिला सशक्तीकरण और बालिका शिक्षा,तकनीकी शिक्षा के विस्तार पर प्रकाश डालते हुए कहा कि राज्य सरकार बेरोजगारी मिटाने की दिशा में सार्थक कदम उठा रही है। 
 
मुख्यमंत्री ने उर्जा विकास के मामले में राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयास की चर्चा करते हुए कहा कि चार वर्ष पूर्व राज्य के 68 लाख घरों में से महज 38 लाख घरों में ही बिजली पहुंच पायी थी और लगभग 30 लाख घरों में अंधेरा था। राज्य सरकार के प्रयास से राज्य के सभी 68 लाख घरों में बिजली पहुंचा दी गयी है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार झारखंड का उर्जा हब बनाने के लिए वचनवद्ध है। इस उद्धेश्य का साकार करने के लिए पतरातू वाष्प प्रतिष्ठान में चार हजार मेगावाट का थर्मल पावर प्लांट लगाया जा रहा है। अक्षय उर्जा के विकास के तहत 530 सरकारी भवनों में 13.175 मेगावाट क्षमता का सोलर प्लांट अधिष्ठापन का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। इसके साथ ही 383 सरकारी भवनों में 5.135 मेगावाट क्षमता के सोलर प्लांट अधिष्ठापन का कार्य इस वर्ष तक पूरा कर लिया जायेगा।
 
उन्होंने कहा कि बिरसा आवास योजना के माध्यम से राज्य के कमजोर जनजातीय समूहों के शत-प्रतिशत परिवारों को आवासीय सुविधा मुहैया कराने के लिए इस वर्ष तीन हजार आवास निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार झारखंड राज्य अनुसूचित जनजाति आयोग का गठन किया गया और पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम का गठन किया जा रहा है।
 
इस अवसर पर संतालपरगना के आयुक्त भगवान दास, पुलिस उपमहानिरीक्षक राजकुमार लकड़ा, उपायुक्त मुकेश कुमार,पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश के साथ विभिन्न विभागों वरीय अधिकारी उपस्थित थे।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS