ब्रेकिंग न्यूज़
एक दिवसीय प्रखंड स्तरीय कृषि समन्यवय कार्यक्रम रक्सौल के कृषि भवन में आयोजित, योजनाओं के बारे में किसानों को दी जानकारीपरिवार नियोजन पखवाड़ा के दौरान 429 महिलाओं ने कराई बंध्याकरण, आशा कार्यकर्ता व एएनएम का कार्य सराहनीयट्रेन की छत पर चढ़कर युवक ने किया ड्रामा, हिरासत में लेकर पुलिस कर रही है पूछताछरवीना टंडन ने किया खुलासा, कहा- मेरे पिता को नहीं लगता था कि मैं कभी एक्ट्रेस बन पाऊंगीगर्भवती महिलाओं को प्रसव पूर्व व प्रसव के बाद बेहतर देखभाल के लिए की जाती है काउंसलिंगबदलती परिस्थितियों के साथ समय का कोई भरोसा नही, कब पलटी मार जायेप्रधानमंत्री मोदी जी-7 समिट में हिस्सा लेने फ्रांस रवाना, वापसी में यूएई और बहरीन भी जाएंगेकश्मीर में धीरे-धीरे पटरी पर लौट रहा आम जनजीवन, प्रशासन ने घाटी के माध्यमिक स्कूलों को भी खोले
झारखंड
मसानजोर डैम की ओर कोई आंख उठाकर देखेगा, तो उसकी आंख निकाल लेंगे :लुइस मरांडी
By Deshwani | Publish Date: 5/8/2018 5:43:14 PM
मसानजोर डैम की ओर कोई आंख उठाकर देखेगा, तो उसकी आंख निकाल लेंगे :लुइस मरांडी

रांची। झारखंड की पर्यटन मंत्री लुइस मरांडी ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को मसानजोर डैम से दूर रहने की नसीहत दी है। उन्होंने रविवार को कहा : ‘दुमका के मयूराक्षी नदी पर बने मसानजोर डैम की ओर अगर कोई आंख उठाकर देखेगा, तो हम उसकी आंख निकाल लेंगे।’

 
मसानजोर डैम के मुद्दे पर पश्चिम बंगाल सरकार के सात पिछले सप्ताह शुरू हुए विवाद के बीच सुश्री मरांडी ने कहा कि मसानजोर डैम के पास बनी सड़क झारखंड की जमीन पर बनी है। यह मसानजोर डैम का हिस्सा नहीं है। उन्होंने कहा कि जब डैम बना था, तो झारखंड के 144 मौजा के लोग विस्थापित हुए थे। इसलिए बंगाल सरकार के कर्मचारियों को अपना बोर्ड और होर्डिंग लगाने का कोई अधिकार नहीं है।
 
उन्होंने सवाल किया कि बंगाल के कर्मचारियों ने यहां किसकी अनुमति से अपने बोर्ड लगाये. इस डैम से दुमका जिले के एक-एक व्यक्ति का सेंटिमेंट जुड़ा हुआ है। यह बेहद संवेदनशील मुद्दा है। इसलिए पिछले दिनों जब प्रधानमंत्री से सीधी बात हुई, तो उन्होंने उनके समक्ष यह मुद्दा उठाया।
 
उन्होंने मई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस संबंध में चिट्ठी भी लिखी. पत्र का जवाब आ चुका है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कार्यालय से जो पत्र आया है, उसमें झारखंड सरकार के सिंचाई विभाग को निर्देश दिये गये हैं कि 144 मौजा को खोजें और उनकी स्थिति का पता लगायें। यह भी पता लगायें कि इन गांवों के लोगों को उनका वाजिब हक मिला या नहीं।
 
संथाल परगना की मयूराक्षी नदी पर बने मसानजोर डैम के विवाद पर लुइस मरांडी ने कहा कि डैम झारखंड में है, लेकिन इससे पश्चिम बंगाल के लोग लाभान्वित हो रहे हैं। कहा कि बंगाल सरकार इसका रंग-रोगन करवा रही है। अपनी पसंद के रंग से। स्थानीय लोगों को इस पर आपत्ति है। लोगों का कहना है कि पश्चिम बंगाल सरकार को ऐसा नहीं करना चाहिए। यदि रंग-रोगन करवाना ही है, तो उसी रंग से रंगे जिस रंग में पहले से यह डैम रंगा है।
 
ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल की पुलिस ने शनिवार की शाम मसानजोर पहुंचकर दुमका-सिउड़ी मार्ग पर यूथ हॉस्टल के पास लगवाये गये गेट पर भाजपाइयों द्वारा चिपकाये गये झारखंड सरकार के लोगो (प्रतीक चिह्न) को उखाड़कर फेंक दिया था। दुमका से सिउड़ी की ओर जा रहे एक कंटेनर को बंगाल पुलिस ने रुकवाया और उसके ऊपर चढ़कर झारखंड सरकार का लोगो उखाड़ दिया। एक स्थानीय युवक ने इसका विरोध किया, तो पश्चिम बंगाल पुलिस वहां से निकल गयी।
 
दो दिन पहले भाजपा जिलाध्यक्ष निवास मंडल के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने झारखंड की सड़क पर गलत ढंग से बोर्ड लगाने का आरोप  लगाते हुए पश्चिम बंगाल सरकार के लोगों पर झारखंड सरकार का लोगों चिपका दिया। वेलकम टू मसानजोर डैम के नीचे लिखे पश्चिम बंगाल सरकार के ऊपर झारखंड सरकार का स्टिकर चिपका दिया।
 
इसके बाद बीरभूम जिले से बड़ी संख्या में पुलिस बल मसानजोर पहुंचा और मसानजोर थाना व यूथ हॉस्टल के पास बंगाल सरकार के सिंचाई विभाग की ओर से बनाये गये गेट पर बंगाल सरकार के लोगों पर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा चिपकाये गये स्टिकर को उखाड़ दिया। हालांकि, स्थानीय एक व्यक्ति की आपत्ति के बाद बंगाल पुलिस के जवान झारखंड सरकार का लोगों नहीं उखाड़ पाये।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS