ब्रेकिंग न्यूज़
पीडीपी से गठबंधन तोड़ने के बाद जम्मू में गरजे अमित शाह, कश्मीर को नहीं होने देंगे अलगअधूरी पड़ी योजनाओं को जल्द पूरा करने का सुशील कुमार मोदी ने दिए निर्देशसर्च अॅापरेशन में पुलिस को मिली बड़ी सफलता, लातेहार से भारी मात्रा में हथियार बरामदकबाड़ी वाले ने किया कबूल, 8500 में खरीदी थी मैट्रिक परीक्षा की गायब हुई कॉपियांसरकारी जमीन पर लालू के कन्हैया ने बनवाया मंदिर, प्रशासन ने नहीं की कोई कार्रवाईस्वतंत्र विदेश नीति के तहत भारत और चीन से करीबी संबंध बनाए रखेगा नेपालसैफुदीन सोज ने फिर दिया विवादित बयान: पटेल तो कश्मीर पाकिस्तान को देना चाहते थे पर नेहरू नहीं मानेउत्पाद विभाग की टीम ने जब्त की 201 कार्टन नेपाली शराब
झारखंड
बाबा मंदिर में अंतिम तेरस पर उमड़े भक्त, लंबी हुई कतार
By Deshwani | Publish Date: 12/6/2018 2:36:29 PM
बाबा मंदिर में अंतिम तेरस पर उमड़े भक्त, लंबी हुई कतार

 देवघर। मलमास मेला का अंतिम तेरस व सोमवारी तिथि एक ही दिन होने के कारण बाबा मंदिर में भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। अहले सुबह से ही भक्तों की कतार लंबी होने लगी थी, जो करीब दो किमी दूर जिला मत्स्य कार्यालय के पार हो गयी। सोमवार को पट बंद होने तक करीब एक लाख भक्तों ने बाबा भोले पर जलार्पण कर मंगलकामना की। भक्तों को सुलभ जलार्पण कराने के लिए श्रावणी मेले के तर्ज पर व्यवस्था को पूरी तरह से चुस्त रखा गया था।

 
वहीं भक्तों की कतार में पेयजल से लेकर छांव तक की व्यवस्था की गयी थी। इधर, शीघ्र दर्शनम पास कूपन से भी बाबा मंदिर को रिकॉर्ड आमदनी हो रही है। अंतिम तेरस पर शीघ्रदर्शनम के माध्यम से 4476 लोगों ने जलार्पण किया। इस व्यवस्था से मंदिर को 11,19,000 रुपये की आमदनी हुई। वहीं बुधवार को राजगीर में मलमास मेला का ध्वजा उतरते ही मेले का समापन हो जायेगा।
 
कतार में जाम लगने से एक घंटा बंद रहा कूपन काउंटर : शीघ्रदर्शनम कूपन की जोरदार डिमांड की वजह से सामान्य कतार को आगे बढ़ने में हो रही परेशानी को देखते हुए मंदिर प्रशासन ने इसे एक घंटे तक बंद कर दिया। उसके बाद लगातार कूपन की डिमांड को देखते हुए काउंटर दोबार चालू किया गया जो कि मंदिर का पट बंद होने तक जारी रहा।
 
तेरस व सोमवारी को आये भक्तों को सुलभ जलार्पण कराने के लिए सुबह से अधिकारी भी मंदिर में जमे रहे। प्रशासनिक व्यवस्था को चुस्त रखने के लिए मंदिर के सहायक प्रभारी सुनील तिवारी व सत्येंद्र चौधरी व्यवस्था पर कड़ी निगरानी रख रहे थे। वहीं दूसरी ओर मंदिर प्रबंधक रमेश परिहस्त स्वयं निकास द्वार पर डटे रहे। सरदार पंडा प्रतिनिधि सच्चिदानंद झा भी गर्भ गृह व मंझला खंड के अलावा प्रशासनिक भवन व्यवस्था देखते रहे।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS