ब्रेकिंग न्यूज़
बिहार: समस्तीपुर में एक लापता स्वर्ण व्यवसायी की हत्या, 14 मई से था लापताअश्विनी वैष्णव ने लेह में नाइलिट केंद्र का किया उद्घाटनकान फ़िल्म महोत्सव के रेड कार्पेट पर भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने अपनी चमक बिखेरीगृह मंत्री अमित शाह ने असम के में तेज वर्षा से उपजी स्थिति पर चिंता व्‍यक्‍त कीडेफ्लंपिक्‍स खेलों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले भारतीय दल को प्रधानमंत्री मोदी ने दी बधाईथिएटर के बाद अब इस दिन ओटीटी पर आएगी शाहिद कपूर की फिल्म 'जर्सी'पश्चिम चंपारणः बगहा में 14 वर्षीया नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म का प्रयास, नाबालिग बच्ची को चलती गाड़ी के आगे फेंकाबिहार: सीवान में बेखौफ अपराधियों ने लूटपाट के बाद युवक को मारी गोली
झारखंड
ऑनलाइन बिकेंगे हस्तशिल्प उत्पाद
By Deshwani | Publish Date: 13/5/2017 7:14:14 PM
ऑनलाइन बिकेंगे हस्तशिल्प उत्पाद

जमशेदपुर। मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय के उपसमाहर्ता संजय कुमार ने शनिवार को पोटका प्रखंड के दूरस्थ गांव जानमडीह पहुंचकर यहां हस्तशिल्प में लगे दर्जनों ग्रामीण महिला और पुरुषों के साथ बैठक की। दरअसल जिला मुख्यालय से 46 किलोमीटर और पोटका प्रखंड मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर स्थित आदिवासी बस्ती जानमडीह के सैकड़ों महिला और पुरुष कारीगर स्थानीय घास और धागे की मदद से सुन्दर कला कृतियों के निर्माण कार्य में कई वर्षों से लगे हैं। ग्रामीणों को प्रशिक्षित करने में लगे यहां के 32 वर्षीय दीनबंधु सरदार एवं सरला सरदार (45) बताते हैं कि वे लोग गांव में ही स्थित नदी नालों के आस पास मिलने वाली एक विशेष प्रकार की घास, बेकार पड़े सामानों और धागे की मदद से सुन्दर हस्तशिल्प जैसे कुसन, चटाई, हैंगिंग वाल, मोबाइल कवर, लेडीज पर्स, टेबल कवर, फोल्डर, कलम दान जैसे सौ से अधिक प्रकार की वस्तुएं बनाते हैं। 

दीनबंधु ने इस मौके पर कला मंदिर और नाबार्ड से मिली मदद के बारे में भी संजय कुमार को विस्तार से बताया। बताया कि अभी उनकी तैयार वस्तुओं को बिष्टुपुर स्थित कला मंदिर के बिक्रय केंद्र से बेचा जाता है। संजय कुमार ने इन कारीगरों से कहा कि वे पूर्व की तरह कला मंदिर के माध्यम से ऑफलाइन बिक्री करते रहें किन्तु सुझाव दिया कि क्यों न इन सुन्दर उत्पादों को ऑनलाइन मार्केटिंग प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध करवाया जाये ताकि अमेजॉन, फ्लिपकार्ट, स्नैपडील और ईबे जैसी वेबसाइटों के माध्यम से न केवल उनको वृहत बाजार मिलेगा। बल्कि अच्छे दाम मिलने के साथ साथ झारखंड की इस स्थानीय बुनाई कला को वैश्विक पहचान भी मिलेगी। उनके इस प्रस्ताव पर गांव वालों की सहमति के बाद इंटरनेट की जानकारी रखने वाले युवाओं को संजय कुमार ने न केवल इन मार्केटिंग साइट्स पर प्रोफाइल बनाकर इन कलात्मक वस्तुओं को बेचने की प्रक्रिया को समझाया बल्कि ईबे पर प्रोफ़ाइल बनाकर कुछ उत्पादों को सूचीबद्ध भी किया।
ईबे साइट पर बनाये गए इस प्रोफ़ाइल को गांव के ही एक युवा श्यामल सरदार संचालित करेंगे। अभी हाल अपने उत्पादों की ऑनलाइन बिक्री इच्छुक कारीगर अपने उत्पाद श्यामल सरदार के मदद से बेच सकेंगे, धीरे-धीरे अन्य लोगों को भी अमेजॉन, स्नैपडील एवं फ्लिपकार्ट पर अपने उत्पाद बेचने का प्रशिक्षण दिया जायेगा। इस प्रशिक्षण की जिम्मेदारी जिले की एक गैर सरकारी संस्था चेंज इंडिया फाउंडेशन को दी गयी है। इस अवसर पर उन्होंने झारक्राफ्ट के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए ग्रामीणों को बताया कि स्थानीय कला के प्रोमोशन और विपणन सहायतार्थ यह एक सरकारी उपक्रम है किसी भी प्रकार की मदद के लिए झारक्राफ्ट से संपर्क किया जा सकता है। इस अवसर पर चेंज इंडिया फाउंडेशन के बिश्वजीत प्रसाद , सारथी सरदार , कमला सरदार , संगीता सरदार , जलेश्वरी सरदार , आश्रिता सरदार , कल्पना सरदार, गुरुमुनि सरदार मौजूद थे। 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS