ब्रेकिंग न्यूज़
पाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोजमोतिहारी के झखिया में पुलिस ने घेराबंदी कर की कार्रवाई, शशि सहनी गिरफ्तार, 125 कार्टन अंग्रेजी शराब जब्तभोजपुरी सेंशेसन अक्षरा सिंह का नया गाना ‘कोरा में आजा छोरा’ रिलीज के साथ हुआ वायरलसमस्तीपुर में कोरोना पॉजिटिव का शव जलाने पहुंची पुलिस व मेडिकल टीम पर रोड़ेबाजी
अंतरराष्ट्रीय
ट्रम्प ने अपनी चैरिटी के पैसे चुनाव अभियान के तहत खर्च किए, कोर्ट ने लगाया बीस लाख डालर का जुर्माना
By Deshwani | Publish Date: 8/11/2019 12:18:22 PM
ट्रम्प ने अपनी चैरिटी के पैसे चुनाव अभियान के तहत खर्च किए, कोर्ट ने लगाया बीस लाख डालर का जुर्माना

वॉशिंगटन। अमेरिका की एक अदालत ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को एक और झटका दिया है। ट्रम्प पर न्यूयॉर्क की एक कोर्ट ने 20 लाख डॉलर (करीब 14 करोड़ रुपए) का जुर्माना लगाया है। ट्रम्प पर 2016 में अपने राष्ट्रपति चुनाव अभियान के लिए चैरिटी की रकम खर्च करने का दोषी पाया गया। बताया गया है कि उन्होंने इन पैसों का इस्तेमाल अपनी पहले से मुनाफे में चल रही कंपनी का कर्ज चुकाने और खुद की पेंटिंग्स खरीदने में किया। जज ने कहा है कि ट्रम्प और उसके तीनों बेटे फाउंडेशन के कर्ता-धर्ता हैं और इसकी राशि का राजनीतिक कार्यों में उपयोग नहीं कर सकते। उन्होंने कहा है कि ट्रम्प को चुनाव कार्यों में अपनी ही राशि का उपयोग करना चाहिए था।

फैसले में कहा गया है कि ट्रम्प के चुनाव अभियान के तहत आयोवा प्राइमरी इलेक्शन के लिए अमेरिका के पूर्व सैनिकों ने काफी फंड इकट्ठा किया था। लेकिन ट्रम्प ने इसका निजी इस्तेमाल कर अपनी जिम्मेदारिओं का उल्लंघन किया।

डोनाल्ड ट्रम्प पर चैरिटी के पैसों के दुरुपयोग का आरोप पिछले साल लगा था। अभियोजन पक्ष का आरोप था कि ट्रम्प ने चैरिटी का इस्तेमाल अपनी चेकबुक की तरह किया। इसके बाद उनकी चैरिटी डोनाल्ड जे ट्रम्प फाउंडेशन बंद हो गई थी। न्यूयॉर्क कोर्ट की जज ने फैसले में कहा कि ट्रम्प पर जो जुर्माना लगाया गया है, वह उनकी चैरिटी में ही जाता, लेकिन वह अब अस्तित्व में नहीं है, इसलिए राष्ट्रपति को यह पैसा 8 अलग-अलग चैरिटियों को दान करना होगा।

इस फाउंडेशन में डोनाल्ड ट्रम्प और उनकी पत्नी इवानका ट्रम्प और एरिक ट्रम्प निदेशक हैं। ट्रम्प के वकील ने कहा है कि डेमोक्रेट ने  राजनीतिक उद्देश्यों की पूर्ति के लिए इस मामले को अदालत में दायर किया।

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS