ब्रेकिंग न्यूज़
झारखंड में बिहार सहित अन्य राज्यों से आनेवाली बस की एंट्री नहीं, निजी वाहनों को भी लेना होगा ई-पासमोतिहारी के कोटवा में ट्रक व कार में भीषण टक्कर, एक की मौत चार अन्य घायल, दो की स्थित गंभीरबिहार में सोमवार से लॉकडाउन का पांचवा चरण शुरू, निजी वाहन को पास की जरूरत नहीं, बसों व अन्य वाहनों का किराया नहीं बढ़ाने का निर्देशपाकिस्तानी उच्चायोग के दो ऑफिसर कर रहे थे जासूसी, भारत ने 24 घंटे के भीतर दोनों को देश छोड़ने को कहाप्रवासियों कामगारों से भरी बस मोतिहारी के चकिया में ट्रेक्टर से टकराई, ट्रेक्टर चालक घायल, कई मजदूर चोटिल, जा रही थी सहरसासाजिद-वाजिद जोड़ी के वाजिद खान अब नहीं रहे, कोरोना की वजह से गई जानबिहार में लॉकडाउन के पांचवें चरण की हुई घोषणा, 30 जून तक बढ़ा, कोरोना संक्रमण की संख्या 6,692 हुईजमात उल मुजाहिद्दीन का आतंकी अब्दुल करीम को कोलकता एसटीएफ ने पकड़ा, गया ब्लास्ट मामले में हो रही थी खोज
अंतरराष्ट्रीय
अमेरिका की चीन के आधिकारियों के खिलाफ वीजा प्रतिबंध लगाने की घोषणा
By Deshwani | Publish Date: 9/10/2019 1:06:12 PM
अमेरिका की चीन के आधिकारियों के खिलाफ वीजा प्रतिबंध लगाने की घोषणा

वाशिंगटन। चीन के शिनजियांग प्रांत में 10 लाख से अधिक मुसलमानों के साथ क्रूरता और उन्हें बलपूर्वक हिरासत में लेने पर अमेरिका ने कड़ा रुख अख्तियार किया है। इस पर अमेरिका ने चीन के अधिकारियों के खिलाफ वीजा प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है। यह जानकारी अमेरिका के विदेशमंत्री माइक पोम्पियों ने मंगलवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर दी।

अमेरिकी विदेशमंत्री ने ट्वीट किया 'आज मैं चीनी सरकार और कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों के लिए वीजा प्रतिबंधों की घोषणा कर रहा हूं, जो शिनजियांग में उइगरों, कजाकों, या अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहों को हिरासत में लेकर उनके साथ अमानवीय व्यवहार करने के लिए जिम्मेदार है।' पोम्पियों ने लिखा 'चीन में मौजूदा सरकार शिनजियांग में धर्म और संस्कृति को मिटाने के लिए वहां के मुसलमानों के साथ क्रूरता कर  रही है। वहां की सरकार से मैं कहना चाहता हूं कि अपनी देशद्रोही निगरानी और दमनकारी नीति को तत्काल समाप्त कर उन सभी मुसलमानों को छोड़ दे।'

इससे पहले अमेरिका के वाणिज्यमंत्री विलबर रॉस ने सोमवार को कहा था कि चीन में मानवाधिकार उल्लंघन और शिनजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों को निशाना बनाने में संलिप्त रहने के लिए 28 चीनी हस्तियों और कंपनियों को काली सूची में डाल दिया गया है। उन्होंने कहा था कि चीन में अल्पसंख्यकों पर हो रहे निर्मम अत्याचार को अमेरिका कभी सहन नहीं करेगा।

अमेरिका के ताजा फैसले से दोनों देशों के बीच एक बार फिर तल्खियां बढ़ गई हैं। इससे पहले ट्रेड वार के दौरान दोनों देशों के बीच अपसी तनातनी देखने को मिली थी। उल्लेखनीय है कि दो दिन बाद वाशिंगटन में अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक मुद्दों के लिए एक उच्चस्तरीय वार्ता शुरू होने वाली ह

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS