ब्रेकिंग न्यूज़
नेपाल से वतन लौट रहे करीब 400 भारतीय को बीरगंज प्रशासन ने रोका, डिटेंशन सेन्टर में खाने-पीने की व्यवस्था नहीं, कर रहे भारत बुलाने की अपीलउत्तर बिहार के ख्यातिप्राप्त सर्जन डॉ. आशुतोष शरण ने PM Cares Fund व CM Releaf Fund को दी कुल 2 लाख 50 हजार की आर्थिक सहायता, पूरी की दिली ख्वाहिशपूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीत
अंतरराष्ट्रीय
प्रधानमंत्री मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बात
By Deshwani | Publish Date: 27/9/2019 6:41:41 PM
प्रधानमंत्री मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई बात

न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी से मुलाकात की। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की। इस दौरान चाबहार बंदरगाह के परिचालन पर भी बातचीत हुई। अफगानिस्तान और मध्य एशियाई क्षेत्र के लिए प्रवेश द्वार के रूप में चाबहार के महत्व पर बात की। संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र से इतर दोनों ने यह मुलाकात गुरुवार को की।

 
इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खाड़ी क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने में कूटनीति, संवाद और विश्वास को बनाए रखने और प्रथमिकता देने के भारत के समर्थन को दोहराया। इस दौरान मोदी और रूहानी ने 2020 में दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की 70वीं वर्षगांठ मनाने पर सहमति व्यक्त की।
 
भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उपभोक्ता है और वह अपनी तेल जरूरतों का करीब 80 प्रतिशत आयात से पूरा करता है। हाल तक इराक और सऊदी अरब के बाद ईरान उसका तीसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता था। पिछले कुछ वर्षों में भारत और ईरान के संबंध बेहतर हुए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने ईरान और पश्चिम एशिया के साथ भारत के संबंधों को विस्तार देने के लिए मई 2016 में तेहरान का दौरा किया था।
 
उल्लेखनीय है कि दोनों देशों को इस मुलाकात का काफी समय से इंतजार था क्योंकि यह बैठक तेहरान के परमाणु कार्यक्रम को लेकर ईरान और अमेरिका के बीच तनाव की पृष्ठभूमि में हुई है। दोनों नेताओं ने 2015 में उफा में अपनी पहली बैठक के बाद द्विपक्षीय रिश्तों में हुई प्रगति की सकारात्मक समीक्षा भी की। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS