ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्वी चंपारण के कई इलाकों में बेमौसम बारिश और बर्फबारी होने से बढ़ी ठंड, दिखा शिमला जैसा नजाराबेतिया में मूर्छितावस्था में अधमरी महिला मिली, ग्रामीणों ने मझौलिया पीएचसी में कराया भर्ती करायासाबरमती आश्रम में राष्ट्रपति ट्रंप ने पत्नी मेलानिया के साथ चरखा चलाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित कीचीन से कच्चे माल की आपूर्ति में व्यवधान के संबंध में वित्त मंत्री ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाईजम्मू-कश्मीर में पंचायत उपचुनाव सुरक्षा मुद्दों और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों की अनिच्छा के कारण स्थगितअशरफ गनी अफगानिस्तान के नए राष्ट्रपति चुने गएबिहार के गया में कोरोना वायरस के एक संदिग्ध मरीज को देखरेख के लिए अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कराया गया भर्तीऔरंगाबाद में रफीगंज-शिवगंज पथ पर तेज रफ्तार ट्रक ने ऑटो में मारी टक्कर, दो मासूमों सहित 10 लोगों की मौत
अंतरराष्ट्रीय
अमेरिका की तालिबान के साथ शांति वार्ता खत्म, ट्रंप ने कहा- अमरिकी सैनिकों की फिलहाल नहीं होगी वापसी
By Deshwani | Publish Date: 10/9/2019 3:19:09 PM
अमेरिका की तालिबान के साथ शांति वार्ता खत्म, ट्रंप ने कहा- अमरिकी सैनिकों की फिलहाल नहीं होगी वापसी

वाशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि तालिबान के साथ शांति वार्ता खत्म हो गई है। यह जानकारी मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप ने कहा कि पिछले चार दिनों में अमेरिका ने तालिबान पर जितने कठोर प्रहार किए हैं वो पिछले 10 सालों में नहीं किए। ट्रंप ने सोमवार को व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा कि तालिबान के साथ वार्ता का अंत हो चुका है, जहां तक मेरी बात है तो वह खत्म हो चुकी है।

 
ट्रंप ने कहा कि उन्होंने तालिबान और अफगानिस्तान के नेताओं के साथ ‘कैम्प डेविड’ में होने वाली गोपनीय बैठक रद्द कर दी है। इस पर तालिबान ने कहा है कि बैठक रद्द करने का नुकसान सबसे ज्यादा अमेरिका को होगा। पत्रकारों से बात करते हुए राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, ‘उन्हें लगा कि लोगों को मारने से वो बातचीत में बेहतर सौदेबाज़ी करने की स्थिति में होंगे, मगर ये एक बड़ी गलती थी।’
 
 
उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने यह कदम काबुल में पिछले सप्ताह हुए हमले की जिम्मेदारी तालिबान द्वारा लेने के बाद उठाया है। इस हमले में अमेरिका का एक सैनिक भी मारा गया था। इसी बीच तालिबान ने कहा है कि बातचीत खत्म होने का नुकसान अमेरिका को उठाना पड़ सकता है।
 
पिछले दिनों ट्रंप ने कहा था कि वो अफगानिस्तान से 14 हज़ार अमेरिकी सैनिक को वापस बुला लेंगे। लेकिन उन्होंने अब कहा है कि वो सैनिकों को वापस बुलाना चाहते हैं लेकिन इसका सही समय पर इस पर फैसला लिया जाएगा। बता दें कि साल 2001 में 11 सितंबर को हमले के बाद अमेरिकी सैनिकों ने अफगानिस्तान से तालिबान की सरकार को उखाड़ फेंका था।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS