ब्रेकिंग न्यूज़
कानपुर में मछलियों से भरा ट्रक पलटा, लोगों ने दिनदहाड़े लूटीं मछलियां, पुलिस ने लाठी पटककर खदेड़ाकार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर दंगल कुस्ती का आयोजन, पहलवानों ने दिखाया दमखमसरिसवा नदी बचाओ आंदोलन की बैठक डॉ अनिल कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में हुई, नदी के मिटते वजूद पर जताई चिंताकार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर हुए कई हादसे, स्नान करने के दौरान अलग-अलग जिलों में डूबने से 20 लोगों की मौतबैडमिंटन खिलाड़ी सौरभ वर्मा ने हांगकांग ओपन के मुख्य ड्रॉ के लिए किया क्वालीफाईखिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा दिखाने का एक शानदार मंच है महिला चैम्पियनशिप: एम्ब्रोसगुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व के अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश ने दी देशवासियों को बधाईछठी बार ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए ब्राजील रवाना हुए प्रधानमंत्री मोदी
अंतरराष्ट्रीय
इमरान खान 22 जुलाई को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति ट्रंप से करेंगे मुलाकात
By Deshwani | Publish Date: 11/7/2019 4:41:52 PM
इमरान खान 22 जुलाई को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति ट्रंप से करेंगे मुलाकात

वाशिंगटन। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान 22 जुलाई को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से मिलेंगे। व्हाइट हाउस ने बुधवार को इमरान के राष्ट्रपति ट्रम्प से मुलाकात के कार्यक्रम पर मुहर लगा दी।

 
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव ने बुधवार को जारी एक वक्तव्य में कहा कि ट्रम्प 22 जुलाई को पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान का व्हाइट हाउस में  स्वागत करेंगे। दोनों नेताओं के बीच अमेरिका और पाकिस्तान के परस्पर हितों के मुद्दे, दक्षिण एशिया में शांति और स्थायित्व के साथ सीमा पार आतंकवाद, क्षेत्रीय सुरक्षा, ऊर्जा और व्यापार आदि मुद्दों पर बातचीत होगी। 
 
हालांकि प्रधानमंत्री इमरान और ट्रंप की मुलाकात को लेकर संशय था। विदेश विभाग की प्रवक्ता मोर्गन आर्टेगस ने पत्रकारों के सवालों के जवाब में कहा था कि इमरान और ट्रम्प के दौरे के बारे संशय की ख़बरें आ रही हैं। लेकिन वह इस बारे में व्हाइट हाउस से स्थिति स्पष्ट होने पर ही पुख़्ता जानकारी दे पाएंगी। 
 
विदित हो कि इमरान खान प्रधान मंत्री बनने के बाद से लगातार ट्रम्प से मुलाक़ात का समय मांग रहे थे, लेकिन व्हाइट हाउस टालता आ रहा था। ट्रम्प ने सत्तारूढ़ होने के बाद  आतंकवाद के विरुद्ध साझी लड़ाई में पाकिस्तान की सीमापार आतंकी गतिविधियों के चलते मुंह मोड़ लिया था। यही नहीं, पाकिस्तान को आतंकवाद के ख़िलाफ़ साझी लड़ाई में दी जाने वाली अस्सी करोड़ डाॅलर की आर्थिक सहायता और सैन्य सामग्री देने पर भी रोक लगा थी। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS