ब्रेकिंग न्यूज़
पूर्व केन्द्रीय कृषिमंत्री मोतिहारी सांसद लॉकडाउन में देशभर में फंसे सैकड़ो चंपारणवासियों को भोजन मुहैया करा रहे हैंलोगों के अनुरोध पर आपातकाल में प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष - PM CARES की घोषणा, नोट करें खाता नम्बरहाइड्रो-ऑक्‍सी-क्‍लोरोक्विन कोविड- 19 में कारगर, आवश्‍यक दवा घोषित, बिक्री और वितरण नियंत्रित करने संबंधी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की अधिसूचना जारीपूरे देश में 562 संक्रमित मामलों की पुष्टि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने की, 41 संक्रमित मरीज हुए स्वस्थईरान से एयरइंडिया के विशेष विमान से लाये गये 277 लोग आज सुबह पहुंचे जोधपुर हवाई अड्डाआज शाम प्रधानमंत्री अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए करेंगे बातचीतवित्‍त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न फाइल करने की अंतिम तिथि 30 जून तक: वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारामनट्रेन के इंतजार में स्टेशन पर बैठे यात्रियों पर अंधाधुंध फायरिंग, चार लोगों को लगी गोली
अंतरराष्ट्रीय
खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान
By Deshwani | Publish Date: 9/2/2019 4:17:00 PM
खतरे में आया चीन का पोर्क उद्योग, अर्थव्यवस्था को हो सकता है करोड़ों का नुकसान

बीजिंग। चीन में अफ्रीकी स्वाइन फीवर नामक बीमारी का एक और मामला सामने आया है जो देश के महत्वपूर्ण सूअर मांस उद्योग के लिए खतरा बन गया है। कृषि और ग्रामीण मामलों के मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि देश के मध्य प्रांत हुनान के योंगझो के एक फार्म में इस बीमारी का पता लगा है, जहां 4,600 सूअर रखे गये हैं।

 
हालांकि, उन सूअरों में से 171 की मृत्यु हो चुकी है और 270 बीमार पाए गए हैं। सरकारी नियमों के मुताबिक, किसी प्रभावित फार्म के सभी सूअरों को वहां से हटा दिया जाना चाहिए या उन्हें खत्म कर देना चाहिए और उस क्षेत्र को संक्रमणमुक्त बनाये जाने तक उसे खाली छोड़ देना चाहिए। 
 
चीन दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक और उपभोक्ता के सूअर का मांस है, परंपरागत रूप से है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय पोर्क व्यापार में भागीदारी सीमित था। अगर बीमारी के कारण चीन के सूअर मांस के उद्योग पर बैन लगता है तो इससे देश को काफी नुकसान हो सकता है।  
 
 
इस बीमारी के बारे में पहली बार अगस्त में पता चला था, इस बीमारी के कारण चीन में अब तक 10 लाख से अधिक सूअरों की मौत हो चुकी है, जिसके चलते चीन में सूअरों के आयात-निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसकी वजह से चीन में सूअर मांस की आपूर्ति बाधित हो गई है। अफ्रीकी स्वाइन फीवर मनुष्यों को प्रभावित नहीं करता लेकिन सूअरों के लिए जानलेवा होता है, जिसमें संक्रमण बेहद तेजी से फैलता है।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS