ब्रेकिंग न्यूज़
जानिए किस बात का है रानी मुखर्जी को बेसब्री से इंतजार, इंटरव्यू में कहा...विधानसभा चुनाव के बाद जयपुर में मतगणना को लेकर आयोग की तैयारियां पूरी16 दिसंबर को कांग्रेस के गढ़ रायबरेली जाएंगे प्रधानमंत्री मोदी, दे सकते हैं बड़ी सौगातकश्मीर में अलगाववादियों की हड़ताल से जन-जीवन प्रभावित, तनावपूर्ण हुआ माहौलभारत ने अग्नि 5 मिसाइल का किया सफल प्रायोगिक परीक्षणनिजामुद्दीन दरगाह में महिलाओं के प्रवेश को लेकर केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिसब्रिटेन से भारत प्रत्‍यर्पण के बाद इस जेल में बीतेंगी विजय माल्‍या की रातें, बैरक तैयारएनडीए से अलग होते ही कुशवाहा ने गिनाई गठबंधन की खामियां, नीतीश कुमार को भी घेरा
अंतरराष्ट्रीय
अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने में महिलाओं की हो सकती है अहम भूमिका!
By Deshwani | Publish Date: 5/12/2018 2:02:50 PM
अफगानिस्तान में शांति स्थापित करने में महिलाओं की हो सकती है अहम भूमिका!

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र के एक शीर्ष अधिकारी ने अफगानिस्तान में संघर्ष समाप्त करने और दीर्घकालिक स्थिरता स्थापित करने के लिए महिलाओं की भागीदारी की महत्ता को रेखांकित किया है। अफगानिस्तान में दीर्घकालिक शांति कैसे स्थापित की जाए इस बात पर लैंगिक समानता के समर्थकों द्वारा की गई चर्चा के दौरान उन्होंने यह बात कही। लैंगिक समानता के करीब 30 समर्थकों ने इस बात पर जोर दिया कि परिवार के पुरुष सदस्यों का घर के बाहर की किसी भी गतिविधि में महिलाओं की भागीदारी को हतोत्साहित करना या प्रतिबंधित करना आम बात है।

 
उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि महिलाओं के खिलाफ भेदभाव और उनके मानवाधिकारों का सम्मान, रक्षा और उसका प्रचार करने में नाकाम रहने के कारण अफगानिस्तान में संघर्ष को अंत करने में महिलाओं की क्षमताएं सीमित है।
 
महिलाओं, शांति एवं सुरक्षा पर केंद्रित राष्ट्रव्यापी बैठक में मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि और देश में अपने मिशन के प्रमुख तादामीची यामामोतो ने कहा, ‘‘शांति प्रक्रियाओं में महिलाओं की भागीदारी के संबंध में अफगानिस्तान में लैंगिक असमानता जारी है, जबकि तथ्य यह है कि महिलाएं भी पुरुषों जितनी ही संघर्ष से प्रभावित हैं।’’ 
 
 
‘ग्लोबल ओपन डेज’ नामक बैठक में उन्होंने कहा कि महिलाओं को शांति प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए तैयार रहना चाहिए और उसमें योगदान देना चाहिए। साथ ही उन्हें वार्ता दलों और शांति सलाहकार निकायों का प्रतिनिधित्व भी करना चाहिए।
 
‘ग्लोबल ओपन डेज’ की शुरुआत वर्ष 2010 में महिलाओं, शांति तथा सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को लागू करने के एक हिस्से के रूप में संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ नेतृत्व और महिला संगठनों और लैंगिक-समानता समर्थकों के बीच वार्ता का समर्थन करने के लिए की गई थी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS