ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी में विभिन्न मुहल्लों में विकास दिवस के रूप मनाया गया बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का 70 वां जन्मदिनबैंक से रुपए निकालने के बाद बरतें सतर्कता, मोतिहारी में झपटमारों ने स्कॉर्पियों से उड़ाए 13 लाख नगदसमस्तीपुर: सरायरंजन में शार्ट सर्किट, महादलित के दर्जन भर घर राख, लाखों की क्षतिवाइस एडमिरल अजेंद्र बहादुर सिंह ने फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ, ईएनसी का पदभार संभालाआयकर विभाग ने हैदराबाद के एक प्रमुख फर्मास्युटिकल समूह की ली तलाशीहमें प्रसंस्कृत खाद्य के लिए देश के कृषि क्षेत्र का वैश्विक बाजार में विस्तार करना है: प्रधानमंत्रीभारत-पाकिस्‍तान के बीच नियंत्रण रेखा और अन्‍य सैक्‍टरों पर संयुक्‍त अरब अमारात ने संघर्ष विराम घोषणा का स्‍वागत कियामुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने आज राजधानी पटना में कोविड-19 का लगवाया टीका
झारखंड
हथियार से लैश जनी शिकार पर निकली दर्जनों महिलाएं
By Deshwani | Publish Date: 1/5/2017 1:57:12 PM
हथियार से लैश जनी शिकार पर निकली दर्जनों महिलाएं

रांची। अरगोड़ा थाना स्थित कडरू के नया टोली से सोमवार को 12 साल बाद फिर महिलाएं पारंपरिक जनी शिकार पर निकली। इससे पूर्व महिलाओं के हथियार को सरना स्थल में रखकर पाहन ने पूजा अर्चना की। इसके बाद हाथ में पारंपरिक हथियार लेकर महिलाएं पुरुष के वेश में जनी शिकार पर निकल गयी। इस दौरान महिलाओं ने मुर्गी, खस्सी, सूअर और बतख का शिकार किया। इसके बाद सभी मिलकर उसे पकाते हैं और खाते हैं। 

आदिवासी समाज के जानकार सुरेश ठाकुर ने संपर्क करने पर बताया कि जनी शिकार का शुभारंभ 1400 ई. में हुआ था। उन्होंने बताया कि एक बार जब पुरुष वर्ग युद्ध से लौटकर गहरी नींद में सो रहा था। आदिवासी समाज पर दूसरे समुदाय के लोगों ने आक्रमण कर दिया। उस समय महिलाओं ने जगाना उचित नहीं समझा और खुद पुरुषों के वेश धारण कर महिलाओं ने युद्ध किया जिसमें उनकी जीत हुई। 
 
गौरतलब है कि ग्रामीण क्षेत्रों में जनी शिकार का सिलसिला शुक्रवार से ही शुरू है. पिठोरिया, रातू और जोन्हा में जनी शिकार पर महिलाएं निकलकर शिकार कर चुकी हैं। इस दौरान लोगों ने काफी विरोध किया और कई स्थानों पर नोक-झोंक भी हुई। रातू में शिकार पर गयी चार महिलाएं घायल भी हो गयी थी। जनी शिकार 12 वर्ष के बाद मनाया जाता है।
 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS