ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईमोतिहारी के कई पुलिस पदाधिकारी इधर से उधर, छतौनी के नये एसएचओ विजय प्रसाद राय व नगर थानाध्यक्ष बने विजय प्रसाद राय,जबकि मधुबन एसएचओ पर हुई कार्यवाईसमस्तीपुर : भीषण सड़क हादसे में बस व बोलेरो की हुई टक्कर, बिथान की चार छात्राओं की मौत, दर्जन भर जख्मीसमस्तीपुर: हर ब्लॉक के अस्पताल में होगी एईएस व जेई के इलाज की व्यवस्थाप्रधानमंत्री ने आईआईटी खड़गपुर के 66वें दीक्षांत समारोह को किया संबोधितविस्‍तृत आर्थिक सहयोग और साझेदारी समझौते पर भारत और मारीशस ने किये हस्‍ताक्षरमोतिहारी पुलिस ने बंजरिया ब्लॉक परिसर से तीन को आर्म्स के साथ दबोचा, सीएसपी संचालक से 4 लाख की लूट का आरोपीइंजीनिरिंग व मेडिकल की तैयारी के लिए मोतिहारी STC के सुबोध सर शुरू कर रहे कई एक्टपर्ट शिक्षकों के साथ ऑन लाइन फ्री क्लासेस
झारखंड
आस्था और विश्वास का केन्द्र है राजा पहाड़ी स्थित शिव मंदिर
By Deshwani | Publish Date: 10/7/2017 12:30:32 PM
आस्था और विश्वास का केन्द्र है राजा पहाड़ी स्थित शिव मंदिर

गढ़वा, (हि.स. )। श्रीवंशीधर नगर में राजा पहाड़ी शिव मंदिर को आकर्षक ढंग से सजाया गया है। यहां का श्रावणी मेला देखने योग्य होता है। बड़ी संख्या में सीमावर्ती राज्यों से भी श्रद्धालु यहां पहुचते हैं। अनुमंडल मुख्यालय में एनएच-75 से उत्तर दिशा में लगभग एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है राजा पहाड़ी शिव मंदिर। यह मंदिर श्रद्धालुओं के लिए आस्था और विश्वास का केन्द्र है।
 
प्रत्येक वर्ष सावन माह में बड़ी संख्या में श्रद्धालु सीमावर्ती उत्तर प्रदेश से और झारखंड से बाबा भोलेनाथ की पूजा-अर्चना करने आते हैं। श्रद्धालुओं का मानना है कि यहां पूजा करने से उनकी मन्नतें पूरी हो जाती हैं। सावन भर श्रद्धालुओं के आने-जाने का सिलसिला लगा रहता है। प्राकृतिक छटाओं से ओतप्रेत है राजा पहाड़ी स्थित शिव मंदिर। राजा पहाड़ी की चोटी पर बना भगवान शिव के मंदिर का स्थल मनोरम है और प्रकृतिक सुंदरता अद्भुत है। चारों तरफ हरियाली और मंदिर तक जाने के लिए बना पीसीसी पथ श्रद्धालुओं को सहसा अपनी ओर आकर्षित करता है। मंदिर निर्माण समिति द्वारा प्रत्येक वर्ष सावन महोत्सव का आयोजन किया जाता है। मंदिर निर्माण समिति द्वारा भगवान शिव का महारूद्राभिशेक किया जाता है, जो देखने लायक होता है। मंदिर निर्माण समिति द्वारा 1988 में वनांचल के जगत गुरु शंकराचार्य द्वारा मंदिर का शिलान्यास कराया गया था। 
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS