ब्रेकिंग न्यूज़
मोतिहारी अभियंत्रण महाविद्यालय में प्राध्यपकों पर हमला व तोड़फोड़, कॉलेज छात्रों के विरूद्ध एफआईआर, कॉलेज व होस्टल में अगले आदेश तक छुट्टीमोतिहारी के छतौनी में स्पोर्स्टस क्लब मैदान से आर्म्स के साथ 4 गिरफ्तार, एसपी ने कहा-अपराध के लिए जुट थे हथियारों के सौदागरकेंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने नागालैंड में मोन मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखीराष्ट्रपति ने गुरु रविदास जयंती की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामनाएं दींनई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में खेलों को एक गौरवपूर्ण स्थान दिया गया है : प्रधानमंत्रीसीतामढ़ी के मेजरगंज में शहीद हुए सब इंस्पेक्टर दिनेश राम का मोतिहारी के बरनावाघाट पर राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कारकोई भी सरकार किसानों को नुकसान पहुंचाने वाले कानून बनाने की हिमाकत नहीं कर सकती- श्री तोमरपुद्दुचेरी में प्रधानमंत्री ने कई विकास परियोजनाओं की शुरूआत की
फीचर
लाल मिर्च खाने से लंबी होती है जिंदगी
By Deshwani | Publish Date: 15/1/2017 4:05:37 PM
लाल मिर्च खाने से लंबी होती है जिंदगी

 न्यूयार्क, (आईपीएन/आईएएनएस)। क्या आप लंबे समय तक जीना चाहते हैं? तो खूब लाल मिर्च खाइए, इससे कोलेस्ट्रॉल कम होता है जिससे जिंदगी लंबी होती है। ऐसा शोधकर्ताओं का कहना है। 

शोध के निष्कर्षो से पता चलता है कि लाल मिर्च के सेवन से मृत्यु दर में 13 फीसदी की कमी आती है जो मुख्यतः हृदय रोग या स्ट्रोक के कारण होती है। जो लोग नियमित रूप से तीखे लाल मिर्च का सेवन करते हैं उनके शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है। हालांकि शोधकर्ताओं को उस प्रणाली का पता नहीं चल पाया है, जिससे लाल मिर्च खाने से जीवन लंबा होता है। अमेरिका के वरमोंट विश्वविद्यालय के मुस्तफा चोपान ने बताया, “ट्रांसिएंट रिसेप्टर पोटेंसियल (टीआरपी) चैनल्स, जो कैप्सीचीन जैसे एजेंटों के प्राथमिक रिसेप्टर्स होते हैं, जोकि मिर्च का प्रमुख तत्व है। उसकी जीवनकाल को बढ़ाने में कोई भूमिका हो सकती है।“ चोपान ने बताया, “माना जाता है कि कैप्सीचीन ही मोटापे को घटाने और धमनियों में रक्त प्रवाह को नियंत्रिण करने में सेलुलर और आणविक तंत्र में अपनी भूमिका निभाता है। साथ ही इसमें माइक्रोबियल विरोधी गुण होते हैं जो ’संभवतः आंतों के माइक्रोबायोटा में बदलाव कर अप्रत्यक्ष तौर पर उस व्यक्ति के जीवनकाल को बढ़ाने में योगदान करता है।“ मसालों और मिर्ची को शताब्दियों से रोगों के इलाज में लाभकारी माना जाता रहा है। इस शोध के लिए दल ने 16,000 अमेरिकियों का 23 सालों तक अध्ययन किया। यह शोध प्लोस वन जर्नल में प्रकाशित किया गया है। 

image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS