ब्रेकिंग न्यूज़
कमलेश तिवारी हत्याकांड: बरेली से मौलाना और पीलीभीत से एक युवक हिरासत मेंझारखंड में दस आईपीएस अधिकारियों का तबादला, सौरभ बने रांची के नये सिटी एसपीपाक के परमाणु युद्ध की धमकी पर रक्षा मंत्री राजनाथ का जवाब, कहा- भारत पर बुरी नजर रखने वालों को नहीं छोड़ेगी सेनापलामू में भीषण सड़क हादसा, गर्भवती महिला सहित तीन की मौतजम्मू-कश्मीर: पुंछ जिले में मिले पाक की नापाक हरकतों के सबूत, सेना ने निष्क्रिय किए तीन मोर्टारनोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी से की मुलाकात, PM ने कहा- उपलब्धियों पर देश को गर्वघरेलू कलह में तीन बच्चों के साथ महिला ने डूब कर दी जान, जांच में जुटी पुलिसरांची टेस्ट में भारत की शानदार जीत, दक्षिण अफ्रीका को पारी और 202 रन से हराया
संपादकीय
शादी को तमाशा न बनाएं! : डा. वेद प्रताप वैदिक
By Deshwani | Publish Date: 17/2/2017 3:53:52 PM
शादी को तमाशा न बनाएं! : डा. वेद प्रताप वैदिक

 कांग्रेस की सांसद रंजीत रंजन एक ऐसा विधेयक पेश कर रही हैं, जो अगर कानून बन गया तो सारे देश का बड़ा लाभ होगा। यह ऐसा कानून बनेगा, जिससे सभी जातियों, सभी मजहबों और सभी प्रांतों के लोगों को लाभ मिलेगा। यह विधेयक शादी में होने वाले अनाप-शनाप खर्चे पर रोक लगाने की मांग करता है। किसी भी शादी पर पांच लाख रुपये से ज्यादा खर्च न किया जाए। जो भी पांच लाख से ज्यादा खर्च करें, वे उसकी दस प्रतिशत राशि गरीब लड़कियों की शादी के लिए जमा कराएं। अतिथियों की संख्या सीमित की जाए।

 अतिथियों को परोसे जाने वाले भोजन के प्रकारों और व्यंजनों की भी संख्या निश्चित की जाए। जाहिर है कि यह विधेयक कानून नहीं बन पाएगा, क्योंकि जो लोग इसे कानून बना सकते हैं यानी नेता लोग, वे ही शादियों में सबसे ज्यादा फिजूलखर्ची करते हैं। उनके यहां हजारों लोग खाना खाते हैं। वे कपड़ों, जेवरों, सजावट और शान-शौकत के दिखावे पर लाखों-करोड़ों खर्च करते हैं। वे दूसरे के माल पर मजे करते हैं। उनके यहां शादी, शादी नहीं, तमाशा ज्यादा होती है। मोटे पैसे वाले लोग सैकड़ों बरातियों को विदेशों में ले जाते हैं, उन्हें हजारों लाखों रुपये के तोहफे देते हैं और अपनी फिजूलखर्ची का खूब प्रचार करते हैं। उनकी देखादेखी मध्यम और गरीब वर्गों के लोग भी झूठी शान बघारने में पीछे नहीं रहते। वे या तो मोटा उधार लेते हैं या लड़कीवालों पर बोझ डाल देते हैं। शादी के बाद भी दहेज की मांग करते रहते हैं। वे मानते हैं कि सारे जीवन की कमाई तीन मौकों पर खर्च की जानी चाहिए- जनम, परण और मरण! अब किसी के मरने पर मृत्युभोज की प्रथा तो लगभग बंद सी हो गई है। 
पुत्र जन्म पर भी थोड़ा बहुत उत्सव जरुर होता है लेकिन परण यानी शादी में मैंने कई घरों को बरबाद होते देखा है। कानूनन इस फिजूलखर्ची पर रोक जरुर लगनी चाहिए लेकिन जैसे आय कर कानून के बावजूद काला धन दनदनाता है, वैसे ही इस कानून से बच निकलने के रास्ते भी खोज लिए जाएंगे। ज्यादा जरूरी यह है कि देश के संपन्न लोग और नेता वर्ग स्वयं सादगी का उदाहरण पेश करें। डेढ़ साल पहले मैंने अपने बेटे की शादी के निमंत्रण पत्र ही नहीं बांटे, कोई बारात नहीं ले गया, दहेज लेने का तो सवाल ही नहीं उठता, कोई बड़ा प्रीति भोज नहीं किया। यदि सभी लोग कमोबेश इस परंपरा को आगे बढ़ाएं तो अपने देश में अरबों खरबों रुपए की बचत हर साल होगी। इस रुपए के लिए होने वाला भ्रष्टाचार रुकेगा। दहेज पर रोक लगेगी। लोगों का वैवाहिक जीवन शांतिमय होगा। विवाह संस्कार की पवित्रता बनी रहेगी।
image
COPYRIGHT @ 2016 DESHWANI. ALL RIGHT RESERVED.DESIGN & DEVELOPED BY: 4C PLUS